आयोडीन नमक से अलग लेकिन गुणकारी है सेंधा या लाहौरी नमक(sendha namak)

आयोडीन नमक से अलग लेकिन गुणकारी है सेंधा या लाहौरी नमक(Sendha Namak)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • लाइफ-स्टाइल, स्वास्थ्य
  • 4656 views
  • भोजन में ज्यादातर आयोडीन युक्त नमक का ही उपयोग लाभकारी माना जाता है। हालांकि, सेंधा नमक कई गुणों की खान माना जाता है। सेंधा नमक एक पहाड़ी नमक है जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयोग माना जाता है। उपवास में सेंधा नमक ही खाया जा सकता है। समुद्री नमक स्वास्थ्य के लिए लाभकारी नहीं होने के बावजूद इसका प्रचार इतना ज्यादा किया गया है मानो यह सेंधा नमक (sendha namak) के मुकाबले ज्यादाअच्छा हो। आयुर्वेद में सेंधा नमक काफी उपयोग किया जाता है। अकसर लाहौर में पाया जाने वाले इस नमक को लाहौरी नमक भी कहा जाता है। प्राकृतिक नमक हमारे शरीर के लिये बहुत फायदेमंद है।

    कई बीमारियों को करता है नियंत्रित




    समुद्री नमक से उच्च रक्तचाप , डाइबिटीज, लकवा आदि गंभीर बीमारियों का भय रहता है। समुद्री नमक की जगह सेंधा नमक((sendha namak)) का उपयोग करने से रक्तचाप पर नियंत्रण रहता है। शुद्धता के कारण इसका उपयोग व्रत में किया जाता है। इसके सेवन से शरीर में ब्लड प्रेशर, चर्म रोग, फेफड़ा, नेत्र रोग, मोटापा, शरीर में जकडऩ सहित कई घातक बीमारियां दूर होती हैं। सेंधा नमक खाने से वात, पित्त और कफ नहीं होता है। इसमें पोटैशियम और मैग्नीशियम आदि मिनरल पाए जाते हैं जो हृदय के लिए लाभकारी होते हैं। हाई बीपी ,रक्त विकार आदि रोग जिसमें नमक खाने को मना किया गया हो, उसमें सेंधा नमक((sendha namak)) उपयोग किया जा सकता है। यह पित्त नाशक और आंखों के लिए, दस्त, कृमिजन्य रोगों और रह्युमेटिज्म में काफी उपयोगी होता है ।

    सेंधा के इस्तेमाल नमक के फायदे (Uses of Sendha Namak)

      • चावल में पिसा सेंधा नमक डालने से इसमें कीड़े नहीं लगेंगे।
      • दीमक वाली जगह सेंधा नमक का पानी डालने से दीमक खत्म हो जाता है।
      • चेहरे की प्राकृतिक चमक बनाए रखने के लिए चेहरे को नमक वाले पानी से धोना चाहिए।
      • कपड़ों में स्याही या धब्बे दूर करने के लिए सेंधा नमक वाले पानी से धोने से कपड़े साफ हो जाते हैं।
      • ताजी सब्जियों को नमक के पानी में धोने से कीड़े मर जाते हैं।
      • घर में नमक के पानी का पोछा लगाने से घर शुद्ध रहता है। इससे फर्श कीटाणु मुक्त हो जाता है।
      • पीतल के बर्तन और चीनी के बर्तन के दाग- धब्बे हटाने के लिए सिरके या नींबू के रस में सेंधा नमक मिलाकर साफ करने से बर्तन चमक जाते हेै।



    • नमक के ढेले को लालटेन के तेल में डालने से तेल कम जलेगा और रोशनी ज्यादा होगी। हालांकि अब ऐसा करना ज्यादा व्यवहारिक नहीं है।
    • गठिया और किसी चोट के कारण हुए मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन में नमक के पानी से नियमित स्नान करने से आराम मिलता है।
    • डेड स्किन से छुटकारा पाने में सेंधा नमक का इस्तेमाल बहुत ही उपयोगी होता है।
    • रॉक साल्ट या सेंधा नमक में 84 प्रकार के मिनरल्स होते हैं जो सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। बॉडी को एक्टिव और फिट रखने के लिए मिनरल का खास रोल है। सेंधा नमक काफी लाभकारी होता है।
    • अस्थमा के मरीजों को सेंधा नमक का सेवन जरूर करना चाहिए। सांसों से जुड़ी कई प्रकार की बीमारियों को दूर रखता है।
    • सेंधा नमक शरीर के मेटाबॉलिज्म यानी रासायनिक प्रक्रिया सही रखने के साथ-साथ मूड को सही और तनाव की समस्या को दूर रखता है।
    • पेट की बीमारियों जैसे गड़बड़ी से अपच, कब्ज, गैस और एसिडिटी की समस्या को दूर करने के लिए खाने के बाद सेंधा नमक का सेवन करना काफी फायदेमंद माना गया है।
    • सेंधा नमक वाले गुनगुन पानी से गरारे करने से गले के कई रोग दूर होते हैं। साथ ही साथ दांत भी मोतियों की तरह चमकते हैं ।
    • बॉडी को रिलैक्स करने के लिए सेंधा नमक ((sendha namak))को नहाने के पानी में मिश्रित करें। इस पानी से बॉडी पर हल्का-सा मसाज करने के बाद गुनगुने पानी से नहाएं। दोनों ही तरीके बहुत ज्यादा कारगर और फायदेमंद माने गए हैं।
    • सेंधा नमक का इस्तेमाल ब्लड प्रेशर कंट्रोल करता है। साथ ही, बॉडी को डिटॉक्सीफाई करने में भी काफी मददगार है। साथ ही मसल्स को रिलैक्स करता है।
    • सेंधा नमक को पानी या लस्सी के साथ पाने से हाजमे की समस्याओं को दूर होती है और पेट की समस्याओं से निजात मिलती है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *