पैरों की देखभाल के तरीके(feet care and remedies)

पैरों की देखभाल के तरीके(Feet Care and Remedies)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे
  • 2901 views
  • पैर शरीर का जरूरी हिस्सा है। खूबसूरत दिखने में पैर काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है पैरों की त्वचा पर पडऩे वाले धूल-गंदगी, उम्र,सूरज कि किरणों का प्रभाव, सिर्फ साबुन के पानी का प्रभाव,इसलिए पैरों की देखभाल पर विशेष ध्यान देना चाहिए। साथ ही पैरों की देखभाल त्वचा संबंधी रोगों से भी बचाती है। घरेलू और प्राकृतिक तरीके जो स्वस्थ व खूबसूरत पैर। हालांकि हम अकसर अपने पैरों की सफाई और खूबसूरती को लेकर सजग नहीं रहते। नतीजा, फटी एडिय़ां और उनमें पनपता संक्रमण, फटी एडिय़ों से परेशान हैं तो ये उपाय मददगार हो सकते हैं।

    पैरों से जुड़ी समस्याएं – Feet Problems and Remedies Hindi




    बारिश के दिनों में कीड़े भी बाहर निकल आते हैं, जिनकी वजह से पैरों में संक्रमण सकता है। बरसात में भीगने के कारण पैरों की उंगलियों में फंगस इन्फेक्शन हो सकता है। बारिश में जगह-जगह पानी जमा हो जाने के कारण कई बार पैदल चलना पड़ता है। ऐसे में पैरों में पत्थर या अन्य किसी नुकीली चीज से चोट लगने की संभावना बनी रहती है।

    ऐसे करें पैरों का बचाव – Feet Care Hindi – Pairo ki Dekhbhal

    • बरसात में पैरों की सफाई का खास ख्याल रखना चाहिए। पैरों को साबुन और पानी से अच्छे से धोएं और पानी में डेटॉल या सेवलॉन जरूर मिलाएं।
    • पैरों को धोने के बाद तौलिए से अच्छे से सुखाकर उन पर पॉउडर छिडक़ें और उसके बाद ही जूते या चप्पल पहनें। पैरों को हमेशा सूखा रखें।
    • बरसात में नंगे पांव बिल्कुल ना चलें। इससे पैरों में किसी भी तरह का घाव नहीं होगा। साथ ही वायरस व बैक्टीरिया से भी बचाव होगा।
    • बरसात मेें मोजों को रोजाना बदले और सूती मोजे ही पहने। गीले मोजों को जल्दी से बदल दे।
    • बरसात के मौसम में अगर पैर में चोट लग जाए, तो डॉक्टरी सलाह जरूरी लेनी चाहिए, अगर पैर में पहले से कोई जख्म है तो डॉक्टर को जरूर दिखाएं। ऐसे मौसम में खुले जूते पहनें या ऐसी चप्पलें पहनें जो आसानी से सूख जायें।



    पैडीक्योर के तरीके – Pedicure Tips Hindi – Pedicure Home Tips Hindi

    पैडीक्योर करने के लिए सबसे पहले पानी को हल्का गरम कर लें। इसमें आधा चम्मच हाइड्रोजन परऑक्साइड या ब्लीच एक्टीवीटर मिलाएं। इसे अच्छी तरह मिलाकर 5 से 6 मिनट तक इसमें पैरों को डूबा कर रखें। इसके बाद पैरों को अच्छी तरह पोछ लें। पैर पर स्क्रब लगा कर 5 मिनट के लिए छोड़ दें। नाखून में अच्छी तरह कोल्ड क्रीम लगाएँ और क्यूटीकल ब्रश की सहायता से साफ करें। इसके बाद नाखून काट कर फाइल कर लें। अब पैरों से स्क्रब को अच्छी तरह रगड़ कर साफ करें। अब पैरों पर कोई भी कोल्ड क्रीम लगाकर 3 से 5 मिनट मालिश करें। आखिर में कोई भी पैक लगा लें। पैरों में रूखापन और खुजली काफी परेशानी दे सकती है। इनसे पैरों की खूबसूरती तो कम होती ही है साथ ही इससे एडिय़ां फट भी सकती हैं। और यह सब दर्द का सबब भी बन सकता है।

    फटी एडिय़ों से बचाव – फटी एड़ियो का उपचार – Cracked Heels Home Remedies

    • अपने पैरों में जरूरी नरमी बनाए रखें। एक अच्छा माश्चराइजऱ लगाने के बाद सूती मोज़े पहनें। इससे पैरों में जरूरी नमी बरकरार रहती है। वनस्पति तेल भी लगा सकती हैं।
    • आरामदेह जूते पहनें। जूते न तो अधिक टाइट होऔर न ही बहुत अधिक ढीले। सख्त जूते पैरों के दर्द को बढ़ा सकते हैं।
    • पैरों को साफ करने के लिए एंटी-सेप्टिक युक्त साबुन का इस्तेमाल करें। इससे पैरों की सूखी त्वचा को तो आराम मिलेगा ही साथ ही कीटाणुओं से भी पैरों की रक्षा होगी।
    • त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए प्युमैस स्टोन का प्रयोग करें। यह ऐसी सख्त त्वचा को हटाने का काम करता है जो बाद में टूट सकती है। इसे इस्तेमाल करते हुए इस बात का ध्यान रखें कि जोर से न रगड़ें कि दर्द होने लग जाए।
    • पैरों पर कटा नीबू रगडऩे से वे नरम बने रहते हैं। हफ्ते में कम से कम एक बार अपने पैरों को नींबू से साफ करें। पैरों को गर्म पानी के टब में भी डुबो सकते हैं जिसमे की 1 कप इप्सम नमक मिला हुआ हो।
    • पैरों को गीला न रखें। पैरों को अच्छी तरह सुखाने के बाद उन पर कुछ लोशन लगाएं। जिससे आपके पैर मुलायम बने रहें।
    • अपनी सूखी त्वचा को कैंची से काटने को कोशिश न करें। इससे आसपास की त्वचा भी निकल सकती है। ऐसा करना कई बार काफी तकलीफदेह भी होता है। और साथ ही इससे त्वचा में संक्रमण होने का खतरा भी होता है।
    • रोजाना कम से कम आठ से दस गिलास पानी पिएं। इसके साथ ही कैफीन और एल्कोहल से भी परहेज करें क्योंकि इनका अधिक सेवन शरीर में जल की मात्रा को कम कर देता है।
    • कभी वक्त की कमी तो कभी किसी अन्य कारण के चलते आप अपनी सूखी त्वचा का सही प्रकार से उपचार नहीं कर पाते हैं। कई बार यह सब करने के बाद भी अपेक्षाकृत परिणाम नहीं मिलते हैं। तो ऐसे में आपको चाहिए कि आप किसी त्वचा रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *