कैसे पाएं छुटकारा मधुमक्खी के डंक से? – how to cure bite of honey bee

कैसे पाएं छुटकारा मधुमक्खी के डंक से? – How To Cure Bite of Honey Bee

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे, स्वास्थ्य
  • 1022 views
  • गर्मियों के मौसम में जब सुबह या शाम के समय सभी लोग या बच्चे पार्क में या बाहर घूमने या खेलने जाते है और कई बाद मधुमक्खी (Madhumakhi) या ततैया के डंक का शिकार हो जाते हैं। मधुमक्खी का डंक काफी दर्दनाक होता है और इसका दर्द कई घंटों तक रहता है। मधुमक्खी के काटने के बाद वह हिस्सा काला पड़ जाता है। इस हिस्से को साफ पानी से धोना आवश्यक होता है जिससे जहर को फैलने से रोका जा सके।




    मधुमक्खी के डंक का उपचार और लक्षण – Madhumakhi Ke Dank Ka Ilaj – Bite of Honey Bee

    मधुमक्खी के डंक मारने के लक्षण – Madhumakhi Ke Dank Ke Lakshan

    मधुमक्खी के डंक मारने के बाद उस व्यक्ति को सांस लेने में कोई तकलीफ, त्वचा पर किसी तरह के लाल निशान, गले या मुंह पर सूजन हो सकती है। ऐसा होने पर बिना तुंरत डॉक्टरी जांच करवा लेनी चाहिए। इसके साथ ही यह ध्यान रखें कि मधुमक्खी के काटने पर सबसे पहले उस भाग को साबुन से धोएं। इसके बाद ही कोई भी उपचार शुरू करें।

    मधुमक्खी के डंक के उपचार के घरेलू नुसखे – Madhumakhi Ke Dank Ka Gharelu Upay




    • मधुमक्खी के काटने पर एक रूमाल में बर्फ के कुछ टुकड़े लें तथा मधुमक्खी के काटे हुए शरीर के हिस्से पर 15-20 मिनट के लिए रखें। इसकी ठंडक से यारीर के ब्लड सेल्स सिकुड़ जाएंगी और दर्द और खारिश का अहसास कम होगा।
    • मधुमक्खी के काटे हुए स्थान पर टूथपेस्ट का इस्तेमाल किया जाना अच्छा माना जाता है। मधुमक्खी के काटे हुए स्थान पर दांतों का पेस्ट लगाने के बाद कुछ देर ऐसे ही रहने दें। इससे दर्द में राहत मिलेगी।
    • बेकिंग सोडा, सिरका दोनों को मिलाकर एक पेस्ट बनाएं और डंक पर अच्छे से लगाएं। इसे 15- 20 मिनट तक रखें और दो-तीन घंटे में मधुमक्खी (Madhumakhi) का दर्द ठीक हो जाएगा।
    • कुछ ताजे पत्ते तुलसी के पीसकर उस स्थान पर कुछ देर के लिए लगाकर छोड़ दें। आराम मिलेंगा।
    • मधुमक्खी के काटे हुए भाग पर कोई एंटीबायोटिक क्रीम भी फायदेमंद हो सकती है। इसके अलावा उस भाग पर हाइड्रोकॉर्टोसोन क्रीम को लगाएं और 30 मिनट के लिए छोड़ दें।आराम मिलेंगा।
    • लहसुन पीसकर उसके रस को काटे हुए स्थान पर लगा लें। इस को लगाने के लिए रुई या कपड़े का उपयोग किया जा सकता है। और इस रस को डंक पर तब तक दबा के रखें, जब तक दर्द कम न हो जाएं।
    • मधुमक्खी के डंक पर शहद लगाने से डंक में राहत मिलती है। इसे 25-30 मिनट तक रखें।
    • मधुमक्खी के काटे हुए स्थान पर सिगरेट का तम्बाकू निकालकर इससे काफी जोर से कुछ देर तक दबाकर रखें, जब तक दर्द तथा सूजन से छुटकारा प्राप्त नहीं हो जाता। इसके बाद तकलीफ कम हो जाएगी।
    • लैवेंडर के तेल या इसके रस को मधुमक्खी के काटे हुए घाव पर लगाने से मधुमक्खी के विष को हल्का करने में मदद मिलेगी और दर्द से भी राहत मिलती है।
    • केले के पत्तें का रस निकाल कर मधुमक्खी ने जहां काटा है, वहां पर आधे घंटे के लिए पट्टी बांधकर इसे छोड़ दें। निश्चित तौर पर लाभ मिलेगा ।
    • इसी तरह मधुमक्खी के काटे हुए भाग पर भांग की पत्तियों का लेप भी बहुत कारगर बताया गया है। गांव-देहात में आज भी मधुमक्खी के काटने भांग की पत्तियों की लेप बहुत कारगत तरीका बताया जाता है।
    • एप्सोन नमक को पानी में मिलाकर पेस्ट बनाएं और इस पेस्ट को मधुमक्खी के काटे हुए भाग पर अच्छे से लगाएं। इसके बाद कुछ देर तक इसे ऐसे ही छोड़ दें। अगर फिर भी इसके लक्षण दिखें तो इसे दोबारा लगाएं।
    • सेब का सिरका सालों से मधुमक्खी के डंक को कम करने के लिए काफी प्रभावशाली नुस्खे के तौर पर कारगर साबित हुआ है। इसका प्रयोग करने से थोड़ी सी जलन अवश्य होती है पर कुछ सेकंड के बाद दर्द से पूरी तरह छुटकारा मिल जाता है।
    • ताजा अजमोद लें और इसे मसल लें। इसे डंक वाले हिस्से पर 25 से 30 मिनट तक छोड़ दें। लाभ मिलेगा।
    • डिओड्रेंट लगाएं। इससे आराम तो मिलता है पर आसपास का भाग काफी खराब हो जाता है।
    • केरोसिन का तेंल भी मधुमक्खी के डंक के लिए काफी असरदार साबित होता है।

    कीचड़ से उपचार का चलन

    मधुमक्खी (Madhumakhi) के डंक के उपचार के तौर पर कीचड़ का प्रयोग किया जाता रहा है। गांव देहात में आज भी कीचड़ का इस्तेमाल कर मधुमक्खी के डंक का इलाज किया जाता है। खेतों और बगीचों में काम करने वाले लोगों के लिए कीचड़ ही डंक के फलस्वरूप पैदा हुई सूजन और डंक के दर्द से राहत पाने का एक एकलौता तरीका साबित होता है। पानी और कीचड़ का एक लेप बनाकर इसे सीधे मधुमक्खी के काटे हुए प्रभावित भाग पर लगाएं। इसके बाद कुछ देर के लिए इसे सूखने के लिए छोड़ दें। एक बार जब आपकी सूजन और दर्द की मात्रा में कमी आ जाए तो इस भाग को अच्छे से साफ कर लें।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *