जानिए बुध (budh) ग्रह के बारे में(mercury planet in astrology)

जानिए बुध (Budh) ग्रह के बारे में(Mercury Planet in Astrology)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • धर्म-संस्कृति
  • 14161 views
  • सूर्य के सबसे निकटतम बुध ग्रह (Bugh grah) है। देवों की सभा में बुध को राजकुमार कहा गया है। ज्योतिष शास्त्र में बुद्ध का एक महत्वपूर्ण स्थान है और इसे एक शुभ ग्रह माना जाता है। परन्तु कुछ परिस्थितियों में या अशुभकारी ग्रह के संगम से यह हानिकर भी हो सकता है। बुध दो राशियों मिथुन एवं कन्या का स्वामी है और कन्या राशि में उच्च भाव (benefic house) में स्थित रहता है तथा मीन राशि में नीच भाव में रहता है। इसकी सूर्य और शुक्र के साथ मित्रता तथा चंद्रमा से शत्रुतापूर्ण और अन्य ग्रहों के प्रति तटस्थ रहता है। यह ग्रह बुद्धि, नेटवर्किंग (Networking) , विश्लेषण, चेतना (विशेष रूप से त्वचा), चर्चा, गणित, व्यापार, शिक्षा और अनुसंधान (research) का प्रतिनिधित्व करता है। बुध तीन नक्षत्रों का स्यावामी है: अश्लेषा, ज्येष्ठ और रेवती (नक्षत्र)। हरे रंग, धातु-पीतल और रत्नों में पन्ना बुद्ध की प्रिय वस्तुएं हैं। इसके साथ जुड़ी दिशा उत्तर है, मौसम शरद ऋतु और तत्व पृथ्वी है।

    बुद्ध ग्रह की कुछ विशेषताएं (Budh Planet in Vedic Astrology)




    रंग – हरा

    अंक – 5

    दिन –बुधवार

    दिशा – उत्तर पश्चिमी

    राशिस्वामी – मिथुन (Gemini) और कन्या (Virgo)

    नक्षत्र स्वामी – अश्लेषा, ज्येष्ठ और रेवती

    रत्न (Stone/Gems) – पन्ना

    धातु – कांस्य / पीतल

    देव– भगवान विष्णु

    उच्च राशि – कन्या (Virgo)

    नीच राशि– मीन (Pisces)

    मूल त्रिकोण – कन्या (Virgo)

    महादशा समय– 17 वर्ष

    बुध का बीज मन्त्र – ऊं ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:

    बुध का कारकत्व और स्वभाव: Budh in Hindi Jyotish
    बुध मस्तिष्क, जिवाः, स्नायु तंत्र, त्वचा, वाक-शक्ति, गर्दन आदि का प्रतिनिधित्व करता है। यह स्मरण शक्ति के कम होना, सिर दर्द, त्वचा के रोग, दौरे, चेचक, पित, कफ और वायु प्रकृति के रोग, गूंगापन जैसे विभिन्न रोगों का कारक है।




    बुध ग्रह के अशुभ फल या लक्षण-Budh ke Ashubh Fal:

    यदि निचे दिए गए कुछ बाधाओं या अशुभ फलों को आप अपने जीवन में देख रहे हैं तो हो सकते है के वो बुध के प्रभाव के कारण हो!
    आवाज़ खराब होना, सूँघने की शक्ति क्षीण, बहन, बुआ और मौसी पर कष्ट, शिक्षा में व्यवधान, बहुत बोलना, कटु बोलना, जल्दीबाजी में निर्णय लेना, दाँतो की बीमारी, मानसिक तनाव, व्यापर और शेयर में नुक्सान, गणित कमजोर होना, बुद्धिवाद का अहंकार

    बुध ग्रह के शुभ फल या लक्षण – Budh ke shubh Fal:

    बुध ग्रह के शुभ होने पर व्यक्ति के जीवन में कुछ प्रभाव देखे जा सकते हैं जिनमे से कुछ हैं:
    सुंदर देह और व्यक्ति का ज्ञानी तथा चतुर होना! ऐसा व्यक्ति अच्छा प्रवक्ता भी होता है और उसकी बातों का असर भी होता है! सूंघने की क्षमता भी अधिक होती है और व्यापार में भी लाभ प्राप्त करता है! बहन, मौसी और बुआ की स्थिति भी संतोषजनक होती है!

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *