चीटियों से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय(ants home remedies)

चीटियों से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय(Ants Home Remedies)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे
  • 3740 views
  • गर्मियों के मौसम मे चींटियां घरों में प्रवेश कर जीना मुहाल कर देती हैं। खाने-पीने का सामान बर्बाद करती हैं तो बिस्तर या दीवारों पर चलती हुई खासा नाक में दम करती हैं। लोगों को को क्या-क्या उपाय नहीं करने पड़ते लेकिन इनसे छुटकारा नहीं मिल पाता। यहां हम आपको कई ऐसे कारगर घरेलू उपाय बता रहे हैं जिन्हें इस्तेमाल कर चिंटियों से छुटकारा पाया जा सकता हैं। अकसर लाल चींटी (Lal Chinti) और काली चींटी ये दो प्रकार की चींटियां ज्यादा दिखती है। लाल चींटी छोटी होती है लेकिन काटती जोर से है। इसके काटने पर तेज जलन होती है। काली चींटी (Kali Chinti) अकसर कम ही काटती है। चींटियां हमारे घर में खुद के लिए एक छोटा सा घर बना लेती हैं। अकसर लाइन बना कर अपने घर से निकल कर खाने के सामान तक पहुंचती हैं। हालांकि चींटी जैव खाद्य श्रृंखला का एक अहम हिस्सा है। यह अच्छा काम भी करती है। मसलन, चींटियां मकड़ी, खटमल, पिस्सू , मक्खी , सिल्वर फिश, मॉथ आदि कीड़े -मकोड़े के लार्वा को खा जाती है।

    चींटियां एक दूसरे को संकेत और संदेशों का आदान प्रदान करती हैं। ये काम चींटियों उनके सिर पर मौजूद एंटीना की मदद से करती हैं। इसके अलावा फेरोमोन्स की मदद से चींटी रास्ता बनाती है और दूसरी चींटियों को रास्ता दिखाती हैं। फेरोमोन्स एक प्रकार का केमिकल होता है जिसे कीट पतंगे और चींटियां उत्सर्जित करते है। इससे वे उनकी प्रजाति को विशेष संदेश देने का काम करते है।




    चींटियों से घर को कैसे रखें सुरक्षित – Home Remedies to Get Rids of Ants naturally

    पेपरमिंट

    • पेपरमिंट की मदद से चींटियों से छुटकारा पाया जा सकता हैं। पेपरमिंट के तेल को खिड़कियों और दरवाजों पर लगाने और कोनों में या सुराखों में डालने से चींटिया भाग जाती हैं।
    • इसी तरह तरल साबुन में पेपरमिंट तेल मिलाकर, उसमें उसी मात्रा में पानी मिलाएं और चींटियों वाली जगह पर छिडक़ाव करें।

    नींबू का रस

    • नींबू के रस को खिडक़ी और दरवाजों पर छिडक़ें। नींबू की बदबू से उन की खोजने की शक्ति खत्म हो जाती है और नुकसान नहीं कर पातीं।
    • जहां चीटियाँ हों वहाँ नींबू के छिलके डाल दें या नींबू के पत्ते तोडक़र डाल दें। चीटियाँ वहाँ से भाग जाएगी।

    संतरे और खीरे के छिलके

    • संतरे के छिलके और खीरे के छिलके भी चींटियों को घरों से दूर रखने में काफी कारगर है।



    दालचीनी का इस्तेमाल

    • खिडक़ी, दरवाजों और जमीन पर पीसी हुई दालचीनी की लकड़ी या उसके तेल का छिडक़ाव करने से चींटियां घर के अंदर आने से रुक जाती हैं और यह काफी कारगर उपाय माना गया है।

    मक्की का आटा

    • मक्की के आटे को चींटियों के बिल में डालने से एक ही हफ्ते में चींटियां बिल्कुल गायब हो जाएंगी।

    गेहूं की क्रीम

    • गेहूं की क्रीम चींटियों को रोकने का एक बहुत सटीक और सरल उपाय है। इन्हें बाग-बगीचों में या जहां भी चीटियां हों, डालने से चींटियां नष्ट हो जाती हैं।

    सिरका

    • सफेद सिरका केवल चींटियों के बिलों में डालने से वह मर जाती हैं।
    • इसी तरह अगर सिरका, तरल साबुन और पिपरमिंट के तेल को मिला कर उनके बिल में डालेंगे तो वे कभी वापस नहीं आएंगी।

    तेजपत्ता
    स्वाद और सुगंध के लिए उपयोग किए जाने वाले तेज पत्ते को चींटियां दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। चींटियों के आने वाली जगह पर तेज पत्ते के कुछ टुकड़े डालने से चीटियां नहीं आएंगी। इसे किचन के ड्रॉअर या कैबिनट आदि में भी रख सकते हैं।

    चाय

    • चाय की पत्ती और सेब के रस का घोल भी चीटियों को रोकने का अच्छा उपाय है। माना जाता है कि चाय की पत्ती न्यूरोटॉक्सिन का काम करती है जिस कारण चींटियां भागे में गनीमत समझमी हैं।

    चॉक

    • जहां से चीटियां आती हैं, उसके चारों तरफ चाक से रेखाएं बनाएं। ये अत्यंत कारगर हैं। इसे देखकर चींटियां रेखा को लांघने की कोशिश नहीं करतीं।

    लौंग

    • लौंगचीटियों को दूर रखने का काम भी करता है। शक्कर के डिब्बे में दो तीन लौंग डालकर रखने से चीटियां डिब्बे की तरफ नहीं आएंगी।



    लहसुन

    • चींटियों के आने-जाने वाले रास्ते पर लहसुन घिसने से या लहसुन का पाउडर बुरकने से चीटियों से मुक्ति मिल जाती है।

    कपूर

    • भारतीय घरों में कपूर आम तौर पर रखा जाता है। कपूर की गंध से चीटियां भाग जाती हैं। खाने का सोडा और पीसी चीनी
    • चींटियां अपने बचाव के लिए एक तरह का एसिडिक पदार्थ लेकर चलती हैं। खाने का सोडा और पिसी चीनी का मिश्रण उनके इस एसिडिक पदार्थ को खत्म कर उन्हें नष्ट करती है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *