इतिहास

विलियम शेक्सपीयर का जीवन परिचय – William Shakespeare Ka Jeevan Parichay

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास
  • आधुनिक नाट्य जगत में सबसे लोकप्रिय नाटककार और लेखक विलियम शेक्सपीयर माने जाते हैं। अंग्रेजी के महान कवि, नाटककार और अभिनेता विलियम शेक्सपीयर (William Shakespeare) का जन्म स्ट्रैटफोर्ड आन एवन (Stanford-on-Avon) में 26 अप्रैल 1564 को हुआ था। इनके पिता का नाम जॉन शेक्सपियर और मां का नाम मेरी आर्डेन था। इनके लिखे नाटक और … Continue reading

    चाणक्य के सर्वश्रेष्ठ सुविचार – Best Chanakya Quotes

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) को भारतीय इतिहास के सर्वाधिक प्रखर कुटनीतिज्ञ माने जाते हैं। उन्होंने ‘अर्थशास्त्र’ नामक पुस्तक में अपने राजनैतिक सिद्धांतों का प्रतिपादन किया है। इनका महत्व आज भी स्वीकार्य है। कई विश्वविद्यालयों ने कौटिल्य के ‘अर्थशास्त्र’ को पाठ्यक्रम में निर्धारित किया गया है। महान मौर्य वंश की स्थापना का वास्तविक श्रेय चाणक्य को … Continue reading

    सिख धर्म की स्थापना – History of Sikhism

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • सिख धर्म (Sikh Dharam) का भारतीय धर्मों में अपना एक पवित्र स्थान है। सिक्खों के प्रथम गुरु गुरु नानक देव सिख धर्म के प्रवर्तक हैं। इस धर्म की स्थापना 15वीं शताब्दी में भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग के पंजाब में गुरु नानक देव जी ने की थी। सिख शब्द शिष्य से पैदा हुआ है जिसका तात्पर्य … Continue reading

    मीराबाई- एक असाधारण संत (Sant Meerabai)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • मीराबाई (Meerabai) की गणना भारतीय इतिहास के महान संतों में की जाती है। वह एक कवयित्री होने के साथ भगवान श्रीकृष्ण के प्रति अलौकिक प्रेम के लिए भी विख्यात हैं। उनके कृष्ण के लिए समर्पित भजन पूरे भारत में बहुत लोकप्रिय हैं। भजन और स्तुति की रचनाएं कर भगवान के और समीप पहुंचाने वाले संतों … Continue reading

    अयोध्या राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद – Ayodhya Ram Mandir Babri Masjid Case

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • देश के सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) में राम मंदिर-बाबरी मस्जिद (Ram mandir-Babri masjid) विवाद पर अंतिम सुनवाई शुरू हो गई है। यह विवाद पिछले करीब १०० साल से भी ज्यादा समय से चला आ रहा है, बावजूद इसके इस विवाद का कोई हल निकलता नजर नहीं आ रहा। यह मामला कोई अभी का नहीं बल्कि … Continue reading

    हीर रांझा के प्यार की अमर कहानी – Heer Ranjha Love Story

    प्यार को कोई परिभाषा नहीं दी जा सकती या कहें कि इस अहसास को शब्दों में बंया नहीं किया जा सकता। यह ऐसा अहसास है जिसे सिर्फ महसूस किया जा सकता है। यह दो लोगों को बिना कुछ कहें एक दूसरे के दिलों में अपनी एक अलग जगह बना देती है। इसीलिए कहा जाता है … Continue reading

    रानी पदमिनी या पदमावती का इतिहास, फिल्म विवाद और अन्य जानकारी – History of Rani Padmavati

    भारतीय इतिहास के पन्नों में अत्यंत सुंदर और साहसी रानी पद्मावती (Rani Padmavati) का जिक्र मिलता है। रानी पद्मावती को रानी पद्मिनी (Padmini) के नाम से भी जाना जाता है। रानी पद्मावती के पिता सिंघल प्रांत यानी श्रीलंका के राजा थे जिनका नाम गंधर्वसेन था। उनकी माता का नाम चंपावती था। पद्मावती बाल्य काल से … Continue reading

    चाणक्य- एक महान विद्वान एवं कूटनीतिज्ञ (Biography of Acharya Chanakya)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • चाणक्य- भारत के इतिहास में एक महान विद्वान और कुटिल राजनीतिज्ञ के तौर पर जाने जाते हैं। चाणक्य (Chanakya) का जन्म एक बहुत गरीब परिवार में हुआ था। अपने उग्र स्वभाव के कारण उन्हें ‘कौटिल्य’ भी कहा जाता है। उनका एक नाम ‘विष्णुगुप्त’ भी था। चाणक्य ने तक्षशिला में शिक्षा पाई थी। 14 वर्ष अध्ययन … Continue reading

    भारत के आध्यात्मिक आकाश का शिखर गोस्वामी तुलसीदास (Goswami Tulsidas) जी

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • भारत में धर्म, विज्ञान और साहित्य के क्षेत्र में समय-समय पर महान संतों, विद्वानों और साहित्यकारों ने जन्म लिया है। भारत के धार्मिक आकाश में चमकने वाले एक ऐसे ही संत हैं तुलसीदास जी महाराज। आज तक भारतीय धार्मिक और हिंदी साहित्य जगत में उनकी जोड़ का दूसरा कवि नहीं हुआ है जो पूरे भारत … Continue reading

    संत रविदास का जीवन परिचय – Biography of Raidas

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • इतिहास, धर्म-संस्कृति
  • रैदास (Raidas – Ravidas) का समय सन् 1398 से 1518 ई. के आसपास का है। संत रैदास काशी के रहने वाले थे। इन्हें रामानंद का शिष्य माना जाता है। नाभादास में रैदास के स्वभाव और उनकी चारित्रि उच्चता का प्रतिपादन मिलता है। प्रियादास कृत भक्तमाल की टीका के अनुसार चित्तौड़ की झालारानी उनकी शिष्या थीं … Continue reading