बच्चों को मौत के शिकंजे में कसता ब्लू व्हेल (blue whale death game):

बच्चों को मौत के शिकंजे में कसता ब्लू व्हेल (Blue Whale Death Game):

  • Lifestyle हिन्दी
  • 1 comment
  • ट्रेंडिंग, लाइफ-स्टाइल
  • 1050 views
  • ब्लू व्हेल (Blue Whale) कई देशों और अभिभावकों के लिए आज चिंता का सबसे बड़ा कारण बन गया है। ये खूनी खेल इतना खतरनाक है कि अब तक दुनियाभर में कई मासूम जाने इसके गिरफ्त में आकर अपनी ज़िंदगी गवां बैठे हैं।

    इस गेम (Game) के फसकर बच्चे इसके आदि हो जाते हैं। इस गेम का टाइम 50 दिन तक होता है। इसमें बच्चों यानी की खिलाडियों को 50 दिन तक लगातार रोज एक टास्क (Task) पूरा करना होता है। और जब आखिरी चुनौती या यूँ कहें की पड़ाव आता है तो खिलाड़ियों को आत्महत्या (Suicide) करने के लिए बोला जाता है।




    इस भयानक खेल में काम को डेडलाइन (Deadline) के अंदर पूरा किया जाना जरुरी होता है। और यह गेम बच्चों को दिमागी रूप से इतना आकर्षित करता है कि वो इसके सभी टास्क जैसे सुबह 4:20 जागना, क्रेन पर चढ़ाई, एक विशिष्ट वाक्यांश या चित्र व्यक्ति के अपने हाथ या बांह पर गुदवाना, सुई को अपने हाथ या पैर पर चुभाना, एक पुल या छत पर खडा होना, ब्लेड से हाँथ काटना, कार्यों को बिना सोचे समझे अंजाम देने लगते हैं। हॉरर वीडियो और फिल्म (Horror Video and Movie) देखना भी गेम का चैलेंज है। कहा गया है के कुछ विशेष प्रकार के संगीत सुनने को भी कहा जाता है जो मानसिक तनाव बड़ाते हैं! इतना ही नहीं सनक में हाथ की 3 नसों को काटकर फोटो क्यूरेटर को भेजना भी इस गेम का एक बड़ा एक चैलेंज है।

    ब्लू व्हेल गेम, चैलेंज – Blue whale game kya hai – The Blue Whale Game in Hindi

    ब्लू व्हेल की शुरुआत (History of Blue Whale Game):

    असल में ब्लू व्हेल (Blue whale) की हलचल को 2016 में रूस में महसूस किया गया, वहां बच्चे और युवा बड़े लेवल पर इस गेम के आदि बन रहे और लगातार हो रही मौतों के कारण एक पत्रकार ने एक लेख छापकर लोगों को इस खतरनाक गेम के विषय में समझाया। इस आर्टिकल (Article) के बाद सरकार हरकत में आयी और इस खेल से जुडे एक व्यक्ति बुडेकिन को गिरफ्तार कर लिया और उसे 16 किशोर लड़कियों को “आत्महत्या” करने के लिए उकसाने के लिए का दोषी ठहराया गया।

    इस गेम को शुरू करने से पहले आपसे सम्बंधित कुछ व्यक्तिगत जानकारियां भी ले ली जाती है और बाद में आपसे टास्क करवाने के लिए डराया धमकाया जाता है ! इंटरनेट (Internet) पर कई ऐसे चैलेंज आते हैं जिन्हें स्वीकार कर लोग ऐसे जाल में फंस जाते है। खुद को नुकसान पहुंचाने वाला यह खेल बिलकुल अजीब है। चीन कि “मानव कढ़ाई” गेम भी खुद को नुकसान पहुँचाने के कांसेप्ट पर आधारित है।




    ब्लू व्हेल से हुई मौते (Death Troll Because of Blue Whale):

    मुंबई में एक 14 साल के एक बच्चे ने अपनी सोसायटी से कूदकर आत्महत्या कर ली, जिसे इस गेम से सम्बंधित ही माना जा रहा था । बच्चे के इस खौफनाक कदम के पीछे शायद ‘ब्लू व्हेल गेम’ ही वजह था। अबतक ब्लू व्हेल के लपेटे में दुनिया भर के तकरीबन 250 लोग आ चुके है।

    2013 में बना था यह खूनी गेम (Blue Whale Killer Game):

    साल 2013 में फिलिप बुडेकिन (Philipp Budeikin) इस मौत के खेल द ब्लू व्हेल (The Blue Whale) को बनाया था। इस भयानक और खूनी गेम को बनाने वाला फिलिप 22 साल का युवा है। इस खेल ने रूस में सनसनी ला दी थी। आत्महत्या की बढ़ती घटनाओं के कारण उसे गिरफ्तार (Arrest) किया गया और बाद में फिलिप को जेल की सजा हो गई।




    ये गेम खासकर छोटे बच्चों को निशाना बनाता है दिमागी रूप से थोड़े कमजोर और गलत सही में फैसला करने में सक्षम नहीं होते। गेम के आदि हो चुका बच्चा यह फैसला कर लेता है कि वो इस गेम के चैलेंज को पूरा करके ही रहेगा।

    हाल ही में भारत में भी इससे सम्बंधित कुछ घटनाये सामने आई है! अभिभावकों को चाहिए के अपने बच्चो पर इस विषय में नजर रखें और साथ ही अगर बच्चो में कुछ विशेष प्रकार के परिवर्तन देखने को मिलें तो इसे गंभीरता से ले!

    One thought on “बच्चों को मौत के शिकंजे में कसता ब्लू व्हेल (Blue Whale Death Game):”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *