अजवाइन : हर मर्ज का उपचार रसोई में रखा यह मसाला(health benefits of carom seeds)

अजवाइन : हर मर्ज का उपचार रसोई में रखा यह मसाला(Health benefits of Carom seeds)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • स्वास्थ्य
  • 6810 views
  • दादी-नानी के नुस्खों में किसी भी तरह की छोटी-बड़ी बीमारी को दूर भगाने के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल अजवाइन का होता है। पेट दर्द, कब्ज, खांसी और विशेष तौर पर छोटे बच्चों में पेट दर्द की शिकायत पर बेहिचक अजवाइन इस्तेमाल होती है। भारतीय खानपान में अजवाइन का प्रयोग एक मसाले की तरह सदियों से होता आया है। अजवाइन की पूरी हो परांठा, मसालेदार एवं तैलीय खाने को पचाने के लिए अजवाइन का इस्तेमाल खूब होता है। आयुर्वेद में शरीर के पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में अजवाइन काफी सहायक है। खांसा, कफ, पेट का दर्द और पेट पें कीड़ों (कृमि रोग) की शिकायत होने पर अजवाइन विशेष रूप से फायदेमंद होती है। इसके अलावा बदहजमी से जुड़ी कोई भी शिकायत जैसे जी मचलाना, डकार आना, हिचकी, मूत्र का रुकना और पथरी जैसी गंभीर बीमारी को दूर करने में भी इसका इस्तेमाल बेहतर है।

    अजवायन के फायदे – Ajwain ke Fayde – Health benefits of Carom seeds Hindi




    भारतय रसोई हो चिकित्सा शास्त्र से जुड़े शोध, अजवाइन को एक पाचक, रुचिकारक, गर्म, चटपटी, तीखी और पित्तवर्धक होती है। पाचन तंत्र से जुड़े विज्ञान में अजवाइन औषधी का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। इसलिए कभी हाजमे की शिकायत हो तो निश्चिंत होकर अजवाइन का सेवन करें। हालांकि, खाने में मसाले की तरह इसका प्रयोग करने के अलावा सिर्फ अजवाइन का सेवन करते समय ख्याल रखें कि इसे ठंडे पानी के साथ लेना हैं या गर्म पानी के साथ। यह अकेली अजवाइन ही है जो किसी भी तरह के अन्न को पचाने में सक्षम है। आइए, अजवाइन के सेहत संबंधी लाभों के बारे में जानकारी लें।

    दूर भगाए सर्दी-जुकाम और खांसी

    सर्दी-जुकाम और नाक बंद होने पर अजवाइन बहुत लाभकारी है। ऐसा करें कि अजवाइन को हल्का कूट लें। कूटी अजवाइन को एक महीन कपड़े में बांधकर सूंघते रहें। इसी तरह ठंड लगने पर अजावाइन को चबाकर पानी के साथ गटक लें। निश्चित तौर पर ठंड से राहत मिलेगी। इसी तरह खांसी होने पर भी अजवाइन के रस में दो चुटकी काला नमक मिलाकर उसे चूसते रहें। इसके बाद गर्म पानी पी लें। इसके अलावा नमक और अजवाइन मुंह में डालकर चूसने से भी आपकी खांसी ठीक हो जाएगी। वहीं काली खांसी शिकायत होने पर जंगली अजवाइन का रस सिरका और शहद के साथ मिलाकर दिन में 2-3 बार एक-एक चम्मच खाने से भी राहत मिलेगी।

    पेट की बीमारियों के लिए अचूक औषधि

    पेट से जुड़ी बीमारियों के लिए अजवाइन एक रामबाण औषधि है। पेट गड़बड़ है तो अजवाइन चबाकर गर्म पानी के साथ गटक लें। पेट में कीड़ों की शिकायत पर अजवाइन को काले नमक के साथ खाएं। लीवर की कमजोरी दर करने में दो ग्राम अजवाइन और आधा ग्राम नमक भोजन के बाद खाना काफी फायदेमंद होगा। इसके अलावा हाजमे में किसी भी तरह की समस्या होने पर दही के साथ अजवाइन खाने से आराम मिलेगा।

    वजन घटाने में भी खूब मददगार

    अजवाइन को मोटापे घटाने में भी बहुत कारगर माना गया है। रात को सोने से पहले एक गिलास पानी में एक चम्मच अजवाइन डाल दें। सुबह अजवाइन वाले पानी को छान कर एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर पीएं। इसके नियमित सेवन से वजन घटाने में काफी लाभ होगा।




    मसूड़ों की सूजन और मुंह की दुर्गंध

    अजवाइन कई अन्यक रोगों में भी कारगर औषधि है। मसूड़ों में सूजन हो या मुंह की दुर्गंध से परेशान, अजाइन हुत ही कारग औषधि है। मसूड़ों में सूजन पर अजवाइन के तेल की बूंदें गुनगुने पानी में डालकर कुल्ला करने से राहत मिलती है। वहीं मुंह में दुर्गंध से बचने के लिए अजवाइन को पानी में उबालकर तीन-चार बार कुल्ला करने से मुंह की दुर्गंध से निजात मिल सकेगी।

    इसके अलावा अजवाइन को सरसों के तेल में डालकर गर्म कर उस तेल से जोड़ों की मालिश करें। इससे हड्डियों और जोड़ों के दर्द से राहत मिलेगी।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *