घर में अनाज एवं खाद्य वस्तुएं सुरक्षित रखने के उपाय (Tips to keep your grocery Items Safe and Clean)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे
  • 6795 views
  • घर में अनाज और अन्य खाद्य वस्तुएं सुरक्षित रखना भी महिलाओं के लिए खासी चुनौती रहती है। अनाज एवं अन्य राशन लाने के बाद उसे सुरक्षित रखने में सावधानी बरतनी पड़ती है। अगर राशन को सही ढंग से न रखा जाए तो उसके सडऩे या उसमें से दुर्गंध आना शुरू हो सकती है। साथ ही उसमें कीट एवं कीटाणु पनपने लगते हैं जिससे वह खाने के योग्य नहीं रह जाता। ऐसे में राशन की साफ-सफाई पर ध्यान देना जरूरी है। अनाज की देखभाल और सुरक्षित रखने के कुछ घरेलू उपाय जो आपके लिए लाभकारी साबित हो सकते हैं :

    अनाज के सबसे बड़े दुश्मन की




    • खपरा बीटल यह एक तरह का कीट होता है जो स्टोर में रखे अनाज का सबसे बड़ा दुश्मन है। इस के बच्चे दाने के अंदर के हिस्से को खा कर नुकसान पहुंचाते हैं। इसके हमले से अनाज से पाउडर निकलना शुरू हो जाता है और अनाज स्वादरहित और विषाक्त तक हो सकता है।
    • सूंड़ी भी एक तरह का कीट है हो अनाज के दाने में सूक्ष्म छेद कर उसे खोखला बना देती है।

    कीटों को स्टोर रूम तक पहुंचने से रोकने के उपाय

    कुछ कीट अनाज, दालों या उनकी फलियों पर दिए अंडों के माध्यम से घरों में पहुंचते हैं। अनाज ढोने के वाहन में भी स्टोररूम तक पहुंच सकते हैं। कई बार पुराने बोरों के प्रयोग और स्टोर रूम की दीवारों की दरारों और छेदों में घुसने से भी ये कीट अनाज तक पहुंच जाते हैं।

      • अनाज को राशन के स्टोर में रखने से पहले धूप में अच्छी तरह से सुखा कर साफ कर लें। ध्यान रखें कि नमी वाले स्थान पर राशन को कभी नहीं रखना चाहिए। साथ ही नया अनाज पुराने अनाज में नहीं मिलाना चाहिए।
      • स्टील के कंटेनर में सामान रखें। अगर कंटेनर में कहीं जंग लगा हो तो उसमें अनाज रखने से पहले उसे पेंट कर दें तो सामान पर नमी नहीं आएगी।
      • मौजूदा समय में प्लास्टिक का कंटेनर अनाज रखने के लिए उपयुक्त है। जिस किसी स्थान पर कंटेनर रख रहे हैं, वहां अगर चारकोल बिछा सकते हैं तो बेहर होगा।
      • स्टोररूम में सेल्फास, डीलोसिया या फिर फॉसरोक्सीन का धुआं कर लें ताकि कीट पहले ही भाग जाएं।
      • पुराने बोरों का प्रयोग करना पड़े तो इन्हें मैराथियान के घोल में 10 मिनट तक डुबोए और सुखा कर प्रयोग करें। अनाज के बोरों को हमेशा दीवारों से दूर रखना चाहिए।



    • हालांकि, स्टोररूम को बारबार नहीं खोलना चाहिए लेकिन स्टोररूम में रखे अनाज को हर 15 दिन के अंतराल में जांच लें कि वह खराब तो नहीं हो गया।
    • कभी स्टोररूम के आसपास गंदगी न जमा दें। स्टोररूम के खिडक़ी-दरवाजे अच्छी तरह से बंद रखें ताकि चूहे आदि अंदर न जा पाएं।

    अनाज सुरक्षित रखने के घरेलू उपाय (Home tips to keep grains safe)

    • चावल को स्टोर करने के लिए पहले नीम की पत्तियों को छाया में सुखाएं। फिर कंटेनर में नीचे पत्तियां रखें और उस पर चावल भर कर ऊपर और नीम की पत्तियां रख दें। इससे कीड़े होने की संभावना कम होती है। अगर कीड़े होते भी हैं तो इन पत्तियों के सेवन से मर जाते हैं।
    • चने, छोलों और गेहूं को धूप में सुखाया जा सकता है। हालांकि ध्यान रखें कि चावल को धूप में न सुखाएं वरना वह खराब हो सकते हैं।
    • दाल को 2-3 महीने के लिए स्टोर करने से पहले उन पर सरसों का तेल लगाना चाहिए। इसके बाद धूप में सुखा कर डिब्बे में भरना चाहिए।
    • राजमा, छोले पर भी सरसों का तेल लगा कर धूप में सुखाने के बाद भरने से वे सुरसुरियों जैसे कीड़ों से बच जाते हैं। इसके अलावा 100 किलोग्राम चने में एक किलोग्राम के अनुपात में नीम की निंबोली मिलाने से भी वे सुरक्षित रहेंगे।
    • गेहूं को सुरक्षित रखने के लिए उसमें प्याज मिलाया जा सकता है। एक क्ंिवटल गेहूं में आधा किलो अनुपात में प्याज मिलाएं। सब से पहले प्याज को नीचे रखें और फिर बीच में और इस के बाद सब से ऊपर। इससे कीड़े नहीं होंगे।
    • आटे और चावल को कीड़ों से बचाने के लिए साबुत लाल मिर्च और साबुत नमक कॉटन के कपड़ों में बांधकर डब्बे में डाल दें।
    • गेहूं को सुरक्षित रखने के लिए टंकी में एक क्विंटल गेहूं रखते समय एक माचिस तली में, दूसरी बीच में और तीसरी सब से ऊपर रखनी चाहिए।
    • नीम की पत्तियों को छावं में सुखा कर भंडारण करने से पहले टंकी की तली में बिछाने से भी गेहूं खराब नहीं होगा।



    सुरक्षा के अन्य उपाय

    • आयुर्वेदिक दवा निर्माता कंपनियों की पारद टैबलेट आमतौर पर घरों में राशन में डालने के लिए इस्तेमाल होती हैं। एक क्विंटल में 4-5 गोलियां डालें। ईडीबी एंपल केमिकल अनाज में रखा जा सकता है। ये कीटाणुओं से अनाज की सुरक्षा करता है।
    • खाने के लिए रखे अनाज के कीड़ों को मारने के लिए एल्युमिनियम फास्फाइड, क्लोरोमोनो प्रोटोफास यानी सल्फास का सावधानीपूर्वक प्रयोग करना चाहिए।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *