क्या है विटामिन ए?, इसकी कमी से नुकसान – what is vitamin a?

क्या है विटामिन ए?, इसकी कमी से नुकसान – What is Vitamin A?

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • स्वास्थ्य
  • 425 views
  • अच्छी सेहत के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण विटामिन, विटामिन-ए (Vitamin-A) आंखों की रौशनी को तेज कर उसकी मांसपेशियों को मजबूत करता है। यह भ्रूण की सामान्य वृद्धि और विकास के लिए बहुत जरूरी है। त्वचा के लिए पोषक विटामिन -ए रक्त में कैल्सियम का स्तर बनाए रखने और हड्डियों के लिए आवश्यक है। हडिडयों, दांत और शरीर के ऊतकों के रख-रखाव के लिए यह पोषक है। सामान्यतया विटामिन ए रेटिनॉल और कैरोटीन दो फार्म में पाए जाते हैं। विटामिन ए आंखों के अलावा शरीर के अनेक अंगों जैसे, स्किन, बाल, नाखून, ग्रंथि, दांत, मसूड़े और हड्डी को सामान्य बनाए खने में मददगार है।

    विटामिन ए के स्रोत और लाभ – Vitamin A Ke Fayde – Sources and Benefits




    कैसे जांचें शरीर में विटामिन ए की कमी के लक्षण – Vitamin A Ki Kami Ke Lakshan

    विटामिन ए की कमी से सूखी त्वचा, क्रोनिक डायरिया, सर्दी-जुखाम, थकान नींद न आना, प्रजनन में कठिनाई, साइनस, कमजोर दांत, वजन में कमी जैसी शिकायतें हो सकती हैं। यह शरीर के सामान्य विकास को प्रभावित कर सकता है।

    विटामिन ए के स्रोत – Vitamin A Ke Srot

    विटामिन ए हमें चुकंदर, साग, ब्रोकली, साबुत अनाज, पनीर, गिरीदार फल, बटर, गाजर, मिर्च, डेयरी प्रोडक्ट, हरी पत्तेदार सब्जियां, अंडा, बींस, राजमा, मीट, आम, सरसों, पपीता, धनिया, चीकू, मटर, कद्दू, लाल मिर्च, सी फूड, शलजम, टमाटर, शकरकंद, तरबूत, मकई के दाने, पीले या नारंगी रंग के फल, कॉड लीवर ऑयल आदि से मिलता है।

    विटामिन ए के सेवन के मुख्य लाभ – Vitamin A Ke Labh

    आंखों की रोशनी बनाए रखने के अलावा विटामिन-ए भू्रण की नार्मल ग्रोथ और डेवलेपमेंट के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। त्वचा की पोषकता के लिए स्वास्थ्यवर्धक है। खून में कैल्सियम का स्तर बनाए रखने, हड्डियों के संवर्धन, दांत और शरीर के ऊतकों के रखरखाव के लिए जरूरी है।

    ज्यादा सेवन से हो सकती है परेशानी, बरतें सावधानी

    अत्याधिक विटामिन ए (Vitamin A) लेना भी शरीर पर अनेक दष्प्रभाव ला सकता है। सिरदर्द, देखने में दिक्कत, थकावट, दस्त, बाल गिरना, स्किन खराब हो जाना, हड्डी और जोड़ों में दर्द, कलेजे को नुकसान पहुंचना और लड़कियों में असमय मासिक धर्म जैसे दोष विटामिन के ज्यादा सेवन के दुष्प्रभाव हो सकते हैं। गर्भ के दौरान अत्याधिक विटामिन-ए पेट में पल रहे बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है।



    विटामिन ए की कमी से हो सकता है अंधापन

    आंखों की कार्यप्रणाली के सबसे अधिक आवश्यक होता है और इसकी कमी से हमें दिखाई कम देता है। वैसे तो कोई भी विटामिन हो सबकी शरीर में अलग अलग काम के लिए जरुरत होती है। विटामिन ए की कमी से सबसे अधिक असर हमारी आँखों पर पड़ता है। मुख्यत हमारे खानपान की वजह से ही होती है। विटामिन ए हमारे शरीर में कई अंगो के समन्वय से कम करने में उतरदायी होता है जैसे कि त्वचा, बाल ,नाखून, बाल और हमारे मुंह के मसूड़े लेकिन अगर विटामिन ए की कमी सबसे अधिक प्रभावित करती है तो वो है हमारी देखने की क्षमता को। इसमें सबसे सामान्य रोग है रतौंधी जिसमें रोगी तो रात में असामान्य रूप से कम दिखाई देता है। साथ ही आंखों में नमी की कमी हो जाती है जिसकी वजह से पलके झपकने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है और आंखों में इसकी वजह से घाव की शिकायत भी हो जाती है।

    छोटे बच्चों की ग्रोथ पर बुरा असर

    छोटे बच्चो में अगर इसकी कमी हो तो उनके विकास पर इसका असर पड़ता है और उनका कद भी छोटा रह सकता है। इसकी कमी हमारी त्वचा पर भी असर करती है जिस वजह से त्वचा से चमक चली जाती है और हमारे बालों की ग्रोथ पर भी इसका असर पड़ता है। बाल गिरने की समस्या से परेशान है तो प्याज का रस बालों पर लगाए। इस घरेलू ट्रिक के इस्तेमाल से गिरते हुए बाल रोक सकते है।

    वसा में घुलनशील है विटामिन ए

    रेटिनॉयड और कैरोटिनॉयड रूप में पाई जाने वाली विटामिन ए (Vitamin-A) वसा में आसानी से घुल जाती है जिससे यह पूरे शरीर में आसानी से पहुंच जाता है। फलों और सब्जियों में कैरोटिनॉयड की मात्रा अधिक होने से सब्जियों का रंग गहरा और चमकीला होता है। तकरीबन 600 प्रकार के कैरोटिनॉयड में से बीटा-कैरोटिन, अल्फा कैरोटिन और बीटा-जैंथोफिल सबसे महत्वपूर्ण हैं।

    विटामिन ए की कमी से ये नुकसान – Vitamin A Ki Kami Ke Nuksan

    अगर शरीर में विटामिन ए की कमी हो जाए तो सेहत बिगड़ सकती है। इंसान को कुछ बीमारियाँ हो सकती है जिनमें से कुछ प्रमुख हैं- विटामिन ए की कमी से मंद रोशनी में ठीक से दिखायी नहीं पड़ता। इस बीमारी को सामान्य रूप से रतौंधी के नाम से जाना जाता है। विटामिन ए की कमी के कारण प्रसव के दौरान गर्भस्थ महिलाओं की मृत्यु हो जाती है। शिशु के जन्म के बाद स्तनपान में भी समस्या आती है।

    विटामिन ए की शरीर में सही मात्रा से लाभ

    विटामिन ए एक एंटी ऑक्सीडेंट (Antioxidant) की तरह कार्य करता है। इस कारण यह कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स के हानिकारक प्रभावों से बचाता हैं। इसके अलावा यह हड्डियों और अन्य शारीरिक जरूरतों को भी पूरा करती है। विटामिन ए प्रजनन तंत्र, पुरुषों में स्पर्म के उचित मात्रा में निर्माण और कोशिकाओं के सामान्य विकास तथा कार्य प्रणाली के लिए आवश्यक है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *