सर्दियों में बालों का झड़ना रोकने के घरेलू उपचार – home remedies to stop hair fall in winters

सर्दियों में बालों का झड़ना रोकने के घरेलू उपचार – Home Remedies to Stop Hair Fall in Winters

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे, लाइफ-स्टाइल
  • 62 views
  • सर्दियों के मौसम में बालों के गिरने (Baalon Ka Girna) की समस्या आम समस्या हो गई है। सर्दियों में त्वचा की तरह बाल भी रुखे होकर सूख जाते हैं। सूखे बालों में बालों का टूटना और झडऩा (Baalon Ka Tootna aur Jhadna) सामान्य बात है। इस मौसम में सिर की त्वचा भी ठंड से सूख जाती है। इसकी वजह से सिर में रूसी दिखना भी शुरू हो जाती है। सर्दियों में बालों के गिरने की समस्या बहुत ज्यादा हो जाती है। इसलिए सर्दियों में बालों को खास देखभाल की आवश्यकता रहती है। रूखे बाल प्राकृतिक रूप से ही ज्यादा मात्रा में टूटते हैं। अस्वस्थ सिर की त्वचा और अस्वस्थ बाल मिलकर बालों के झडऩे की शुरुआत करते हैं। ऐसे में सर्दियों में हमें अपने सिर की गर्म तेल से मालिश करनी चाहिए।

    सर्दियों में कैसे रोकें बालों का झड़ना – Sardiyon Mein Baalon Ki Dekhbhal Ke Tarike – Stop Hair Fall




    बाल झडऩे से रोकने के घरेलू उपाय – Baal Jhadne Se Rokne Ke Gharelu Upay

    • सर्दियों में बादाम के तेल और जैतून के तेल से सिर की मालिश करना अच्छा रहता हैं। सर्दियों के दौरान शैंपू का उपयोग कम करना चाहिए।
    • तीन अंडों की सफेदी में दो चम्मच ताजी दही और शिकाकाई पाउडर मिलाकर सिर पर लगाएं और 20 मिनट के बाद किसी अच्छे शैंपू से बाल धो लें।
    • प्याज के रस में शहद मिला कर बालों में लगाने से बालों का झडऩा बंद होता है। यदि बालों में कीड़ा लगा हो तो भी प्याज का रस लगाने से फर्क पड़ता है।
    • ठंड में रूसी बालों के झडऩे का प्रमुख कारण हैं। अदरक का रस निकाल कर सिर पर अच्छे से लगाएं। एक घंटे बाद पानी से धो लें। हफ्ते में दो बार ऐसा करने से बालों का झडऩा निश्चित रूप से कम होगा।
    • शहद के साथ केले को मिलाकर हेयर पैक बना लें। यह पैक बालों में ठंडक, रूखेपन और झडऩा भी रोकती हैं। पेस्ट को बालों पर लगाएं और आधे घंटे बाद धो लें। इससे बालों का रूखापन चला जाएगा। वे स्वस्थ और सुंदर हो जाएंगे।
    • बालों का झडऩा अनुवाशिंक भी हो सकता है। कई महिलाओं और बच्चों को बाल झडऩे की शिकायत रहती हैं। ऐसी स्थिति में जीन्स ही बालों का स्वास्थ्य निर्धारित करती हैं। इसके लिए पोषक पदार्थों वाला भोजन खाएं। विटामिन ए युक्त भोजन जैसे कद्दू और गाजर, विटामिन ई युक्त भोजन जैसे बादाम और नाशपाती तथा विटामिन सी युक्त भोजन जैसे आंवला तथा सिट्रस फलों का सेवन करें।
    • गर्भावस्था के दौरान भी बालों पर ध्यान देना जरूरी होता है। हाइपर थाइरोइड होने पर भी बाल झड़ते हैं। अगर बाल तीव्र गति से झड़ें तो किसी डॉक्टर से संपर्क करें।


    • डैंड्रफ (Dandruff) न सिर्फ बालों को बल्कि सिर की त्वचा को भी नुकसान पहुंचाते हैं। यह एक फंगल संक्रमण होता है। अच्छे शैंपू से बाल धोएं और सिर को स्वच्छ रखें। एक दिन छोडक़र शैंपू करें।
    • व्यायाम से शरीर और बाल दोनों स्वस्थ रहते हैं। हर दिन कम से कम 15-20 मिनट व्यायाम करने से तनाव कम होगा। सिर में रक्त संचार बढ़ेगा जिससे बाल अच्छे रहेंगें।
    • गीले बाल सबसे ज्यादा टूटे हैं। बालों को धोने के बाद तौलिये को सिर के चारों तरफ पगड़ी की तरह बांधें। तौलिये को सिर पर घिसे नही। बालों को प्राकृतिक रूप से सूखने दें और गीले बालों में कंघी न करें। इससे बाल टूटते हैं।
    • रात में बालों को कंघी कर के सोएं। यदि बाल लंबे हैं तो ढीली चोटी बांधें। साटिन के तकियों का प्रयोग करें।
    • हर दो महीनों में एक बार बालों को ट्रिम करवाएं जिससे दोमुंहे बालों की समस्या न हो।
    • बालों को झडऩे (Baalon Ka Jhadna) से रोकने के लिए लहसुन को पीसकर नारियल तेल में मिलाकर कुछ मिनट तक उबालें। ठंडा होने के बाद इससे सिर की मालिश करें। आधे घंटे के बाद बालों को धो लें।
    • बालों के साथ ज्यादा छेड़छाड़ करना उन्हें कमजोर बना देता है। यदि बालों को कलर करना हो तो हमेशा अच्छे कलर करना चाहिए। इसके बाद आफ्टर कलर पोषण लगाना चाहिए। रोलर्स तथा हेयर ड्रायर्स का ज्यादा प्रयोग न करें।
    • गुड़हल के फूल और नारियल तेल को मिलाकर लेप बनाकर सिर पर लगाकर कुछ घंटों बाद पानी से धो लें।
    • सेब के रस का सिरका, अरंडी का तेल दोनों बालों के लिए काफी अच्छे होते हैं। दोनों को बालों पर लगाने से बालों का गिरना कम हो जाता है।
    • आंवला (Amla), शिकाकाई दोनों को पीसकर लेप बना लें। इस लेप को सिर और बालों पर लगा कर कुछ देर बाद पानी से धो लें। आंवला और शिकाकाई बालों के लिए बहुत पोषण देने वाले हैं। ये दोनों बालों को जड़ों से मजबूत और बालों को नमी लाने है।
    • हिना (Heena) को पुराने जमाने से प्राकृतिक बालों के रंग और कंडिशनर के रूप में उपयोग किया जाता है। पानी में चाय पत्ती, मेथी के दाने मिलाकर उबाले और पानी को छान कर उसमें मेंहदी और दही मिलाकर पैक बना लें और बालों पर लगाएं और सूखने के बाद बालों को सादे पानी से धो लें। रात को सरसों के तेल से मालिश करने के बाद अगले दिन शैपू करें। इससे बालों में रुखापन भी नहीं आएगा।
    • मेथी के बीज, करी पत्तेऔर तुलसी पत्तों को मिक्स कर पीस लें। इस पेस्ट को बालों और सिर की त्वचा पर अच्छे से लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद पानी से धो लें। यह पैक सिर के किसी भी संक्रमण और खुजली को दूर कर सकता हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *