सांस की बदबू (bad breath) से कहीं होना न पड़े शर्मिंदा

सांस की बदबू (Bad Breath) से कहीं होना न पड़े शर्मिंदा

  • Lifestyle हिन्दी
  • 1 comment
  • घरेलू नुस्खे, स्वास्थ्य
  • 835 views
  • सांसों की बदबू (Saanso ki badboo) और मुंह की दुर्गंध एक गंभीर समस्या है। सांसों को तरोताजा करने के लिए थोड़ा जतन जरूरी है। किसी सामाजिक कार्यक्रम या पार्टी में मुंह से आ रही बदबू काफी शर्मनाक हो सकती है। ऐसे में कुछ नुस्खों को अपनाकर मुंह की ताजगी को बनाए रख सकते हैं। सांसों की दुर्गंध (Saanso ki durgandh) ठीक करने के लिए मुंह और मसूढ़ों की की देखभाल बहुत जरूरी है। मुंह की दुर्गंध का खुद पता नहीं चलता है। मुंह की दुर्गंध दूर करने के लिए कई ऐसे घरेलू एवं अन्य उपाय हैं जिन्हें अपनाकर हम तरोताजा सांस पा सकते हैं।

    सांसों की दुर्गन्ध के घरेलू उपाय – Saanso ki badboo ka ilaj – Home Remedies for Bad Breath in hindi




    सोडियम (Sodium) का कुल्ला फायदेमंद

    सोडियम से मुंह का कुल्ला करना मुंह से कीटाणुओं को खत्म कर और मुंह की दुर्गंध का इलाज भी होगा। आधा चम्मच सोडियम को पानी में मिलाकर मुंह साफ करें। यह उपाय सोने से पहले करना फायदेमंद होगा। इसे कुछ रातों तक प्रयोग करने के बाद मसूढ़े लाल के बजाय गुलाबी हो जाएंगे और मुंह की दुर्गंध दूर हो जाएगी।

    नींबू की सहायता – Lemon for Bad Breath

    मुंह की दुर्गंध (Breathing problem) को नींबू की सहायता से ठीक कर सकते हैं। नींबू में पाया जाने वाला अम्ल जीभ और मसूढ़े पर पैदा होने वाले कीटाणुओं के विकास को रोक देगा। नींबू और सोडियम के मिश्रण का प्रयोग बिस्तर पर जाने से पहले कर सकते हैं।

    बेकिंग सोडा भी लाभकारी – Sodium Bicarbonate

    बेकिंग सोडे का झाग मुंह की दुर्गंध के इलाज करने में मददगार है। इसमें पाया जाने वाला रसायन जीभ पर पाए जाने वाले कीटाणुओं को रोकता है। दांतों को बेकिंग सोडा भरपूर टूथपेस्ट या नियमित टूथपेस्ट के बाद नुस्खे के झाग का उपयोग कर सकते हैं। यह भी संभव है कि नुस्खे के झाग को सभी समस्याओं का अंत करने के लिए भी प्रयोग कर सकते हैं।

    सूरजमुखी के बीज या मिंट की पत्तियों को चबाएं

    सूरजमुखी के बीज या मिंट की पत्तियों को चबाने से मुंह की सफाई होती है और नई खुशबू फैलती है। रात्रि भोजन के बाद सूरजमुखी के बीज को कुतरना बदबूदार सांसों के लिए अच्छा रहेगा। मिंट की पत्तियों को चबाना मुंह के लिए फ्रेशनर का काम करता है।

    चीनी खाने से बचें

    चीनी दांतों के लिए हानिकारक है। कैविटी को बनाकर सांस की बदबू परिणाम के रूप में देगी। बिस्कुट, कैंडी आदि छोडऩा कुछ अच्छे उपाय हैं। भूरी चीनी का उपयोग करें। चीनी मुंह के सूखेपन को बढ़ाकर मुंह से बदबू (Muh se badboo) आने का मुख्य कारक बनती है।

    प्रो-बायोटिक दही लें

    नियमित उपयोग प्रो-बायोटिक, असिडोफाइलस के समान कार्य कर मुंह से बदबू का उपाय करता है। दही में पाए जाने वाले पोषक कीटाणुओं का उपयोग मुंह की दुर्गंध (Muh ki durgandh) को ठीक करने में सहायता करेगा।




    मेथी की चाय पीएं

    मेथी बीज हमेशा मुंह से बदबू के लिए अच्छे माने जाते हैं। एक चम्मच मेथी उत्पाद को तीन कप पीने के पानी में एक घंटे तक धीमी आंच पर पकाएं। जब यह एक चौथाई रह जाए तो इसका उपयोग करें।

    अनन्नास फल का रस या मिनरल पानी और चाय

    बदबूदार सांसों के इलाज के लिए पानी एक सीधा तरीका है जो काफी लाभकारी है। मिनरल पानी पेट को ठीक रख जीभ को जलयोजित करता है और कीटाणुओं को नष्ट कर बदबू को खत्म करता है। नियमित व्यायाम करें और उच्च मात्रा में फाइबर आधारित भोजन लें। यह पेट को ठीक रखकर मुंह से आने वाली बदबू को रोकता है।

    सांसों की बदबू दूर करने के कुछ अन्य उपाय – Sans ki badboo dur Karen

    इलायची और लौंग को चबाएं

    इलायची और लौंग दोनों समान रूप से मुंह की दुर्गंध (Mouth bad smell) को ठीक करने में लाभदायक होते हैं। खासतौर पर ठीक भोजन के बाद इसे चबाना अच्छा होता है।

    मुंह की सफाई

    मुंह की सही देखभाल बदबू दूर करने के लिए जरूरी है। फ्लॉस करना बिल्कुल न भूलें। ऐसा टूथपेस्ट चुनें जो मुंह के अंदरूनी भाग को सूखा न बनाता हो।

    प्याज, लहसुन खाने से परहेज करें – How to Cure Bad Breath

    यदि ज्यादातर समय लहसुन और प्याज का सेवन करते हैं। इसे खाने से हमारी सांसों में बदबू पैदा होती है। जब भी प्याज और लहसुन खाएं तो अवश्य दांतों को अच्छे से साफ कर लेना चाहिए। आमतौर पर यह आवश्यक है कि दिन में दो बार दांतों की सफाई करें।

    गरारे करने के लिए पेरोक्साइड का करें प्रयोग

    अगर प्लाक की समस्या है तो ऐसे एंटी माइक्रोबियल माउथवाश जरूरी है जो इस समस्या से पूरी तरह निजात दिला सके। सांसों को तरोताजा रखने के लिए जरूरी है कि पेरोक्साइड से गरारे करें। यह सांसों को माउथवाश की मदद से ठीक करने जैसा होता है। इस प्रक्रिया के बाद शरीर के उस भाग को काफी परफेक्ट महसूस करेंगे।




    फ्लोराइड काफी फायदेमंद

    सांसों को खुशबूदार बनाने में मुंह की सफाई के लिए फ्लोराइड का प्रयोग करें। अगर दांतों में सडऩ है तो सांसों की बदबू (Saanso ki badboo) कायम रहेगी। एक बार दांत खराब हो जाएं तो इनमें दर्द होता है और ऐसी स्थिति में सबसे अच्छा यही रहेगा कि निरंतर रूप से फ्लोराइड का इस्तेमाल करें।

    साइनस होने पर सांस की बदबू सामान्य

    साइनस का इन्फेक्शन है तो मुंह से बदबू आना आम बात है। जब यह इन्फेक्शन कायम रहता है तो खराब सांसों की समस्या काफी तकलीफ देती है। किसी के साथ बात करना तो दूर किसी के सामने खड़े होने में भी काफी संकोच होता है। इस इन्फेक्शन को दूर करने के लिए प्यूरुलेन्ट पोस्ट नेसल ड्रिप का प्रयोग करते हैं । ऐसे में सुबह जैसे ही जागें तो तुरंत वाशरूम जाएं, ब्रश उठाएं और दांतों की सफाई करें।

    One thought on “सांस की बदबू (Bad Breath) से कहीं होना न पड़े शर्मिंदा”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *