माइग्रेन के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार(migraine symptoms and remedies)

माइग्रेन के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार(Migraine symptoms and remedies)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे
  • 14693 views
  • माइग्रेन क्या है? What is Migraine – Migraine kya hai?

    सिरदर्द आज कल के समय में एक आम समस्या बन गया है! और ये सही है के माइग्रेन में होने वाला सरदर्द बहुत तकलीफ दायक होता है। मुख्य रूप से युवाओं में नींद या अच्छे भोजन के कमी के कारण, भागदौड़ की जिंदगी और अत्यधिक काम या तनाव के कारण इस समस्या का स्तर बड़ा है! इस प्रकार के सिरदर्द या माइग्रेन की समस्या से काफी लोगों का वास्ता रहता है! यह दर्द कई बार अन्य प्रकार की समस्याओं या बिमारियों को न्योता दे सकता है जैसे चक्‍कर, उल्‍टी कमजोरी और थकान आदि!

    माइग्रेन के लक्षण, कारण और उसका घरेलू उपचार: –




    जब आप के सिर के एक हिस्से में बुरी तरह धुन देने वाले मुक्कों का एहसास होता है, और लगता है कि सिर अभी फट जाएगा ।
    जब काम करते समय अत्यंत दर्द हो और काम करना भी मुश्किल हो जाए ।
    जब एहसास होता है कि आप किसी अंधेरी कोठरी में पड़े हैं, और दर्द कम होने पर ही इस अनुभव से निजात मिलती है!

    अगर इनमें से किसी भी प्रश्न का उत्तर हां में है, तो इस बात की पूरी संभावना है कि आपको माइग्रेन हुआ है। ज्यादातर लोगों को माइग्रेन का पता तब चलता है, जब वे कई साल तक इस तकलीफ को झेलने के बाद इसके लक्षणों से वाकिफ हो जाते हैं।

    माइग्रेन होने के मुख्य कारण: –

    माइग्रेन होने का मुख्य कारणों में ज्यादा काम करना, हर समय तनाव में रहना, सही समय पर भोजन न करना, तेज धूप मे रहना, धूम्रपान, तेज गंध वाले परफ्यूम से, बहुत ज्यादा या कम नींद लेना हो सकते हैं। इसके अलावा मौसम का बदलाव, हार्मोनल परिवर्तन, सिर पर चोट लगना, आंखों पर स्ट्रेस पड़ना या तेज रोशनी, एक्सरसाइज न करने से भी माइग्रेन की परेशानी उत्पन्न हो सकती है।

    माइग्रेन से बचने के घरेलू उपाय – Home remedies for Migraine pain in Hindi

      1. 1. नींबू के छिलके को पीसकर इसका लेप माथे पर लगाने से माइग्रेन में होने वाले सिरदर्द से राहत मिलती है।
      2. 2. बटर में पीसी हुई मिश्री को मिलाकर खाने से माइग्रेन में काफी राहत मिलती है।
      3. 3. माइग्रेन की समस्या में हमे अपने खाने के टाइम टेबल का भी बहुत ही ध्यान रखना होता है क्योकि अगर आप ज्यादा देर तक भूखे और बिना कुछ खाना खाये रहें तो माइग्रेन का दर्द दुबारा शुरू हो जाता है। इसलिए हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी खाली पेट न रहें।
      4. 4. अपने सोने के कमरे में अंधेरा रखें क्योकि तेज़ रौशनी कभी कभी माइग्रेन के लक्षणों को और भी ज्यादा बढ़ा देती हैं इसलिए हमेशा लाइट बंद करने के बाद एक अंधेरे कमरे में ही सोएं।



      1. 5. माइग्रेन के सिरदर्द से बचने के लिए आपको अपने नियमित जीवन में भी कई बदलाव कने पड़ सकते हैं! क्यूंकि ज्यादा तनाव, और अधिक काम करना तथा संतुलित आहार न लेना माइग्रेन का एक कारण हो सकता है! डॉक्टर भी शुरू में आपको इस तरह की सलाह देते हैं, दर्द यदि बहुत ज्यादा रहता हो तो सही ढंग से उपचार जरूर कराएं!
      2. 6. माइग्रेन का दर्द होने पर कपूर को घी में मिलाकर सिर पर हल्के हाथों से मालिश करें जिससे माइग्रेन के दर्द में काफी आराम मिलेगा।
    1. 7. हरी पत्तेदार सब्जियों और फल जैसे – गाजर, पालक, खीरा का प्रयोग करें और जहां तक हो सके मौसमी फल और हरी सब्जियाँ का इस्तेमाल करें।
    2. 8. माइग्रेन की समस्या के दौरान रात में हल्का तथा फाइबर युक्त भोजन करें, ये आपके पेट के पाचन तंत्र को सही रखता है और पेट सम्बन्धी समस्याओं से भी बचाता है!
    3. 9. दालचीनी को पिसकर इसका लेप बनकर माथे पे लगाने से भी आराम मिलता है! कुछ लोगो इसका पॉउडर बनाकर ठंडे पानी के साथ लेते हैं!
    4. 10. माइग्रेन की परेशानी होने पर हल्के हाथों से सिर की मालिश भी कर सकते हैं। कई बार अगर आप अपने सर या कंधे की मालिश करते हैं तो कम दर्द वाला माइग्रेन तो इससे एकदम गायब हो जाता है!
    5. 11.माइग्रेन में सिर दर्द होने पर धीमी आवाज में संगीत सुनना बहुत फायदेमंद होता है। इससे जल्द ही सिरदर्द से राहत मिलती है।
    6. 12. माइग्रेन के सिरदर्द में ठंडी बर्फ का पैक या आइस पैक भी बहुत काम आ सकता है! यदि आप इसे अपने सर या गर्दन के आस पास रखे तो ये आपके ब्लड सर्कुलेशन (Blood Circulation) को नियंत्रित कर सकता है!
    7. 13. माइग्रेन में इलाज के साथ-साथ आपको आहार का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए. ऐसा देखा गया है के कुछ खाद्य पदार्थो के अधिक खाने या सिर्फ खाने से भी कई बार ये शिकायत आती है. इसलिए आपको चाहिए के आप अपने शरीर से होने वाले रिएक्शन या एलर्जिक प्रक्रिया को समझे और ऐसे खान-पान से बचें जिससे माइग्रेन की समस्या हो!

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *