खट्टे-मीठे जामुन के औषधीय गुण(black plum health benefits)

खट्टे-मीठे जामुन के औषधीय गुण(Black Plum Health Benefits)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • स्वास्थ्य
  • 1749 views
  • स्वाद और सेहत से भरपूर फल जामुन कई रोगों की अचूक दवा है। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर जामुन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। इसका सेवन पाचन क्रिया को ठीक कर पेट की बीमारियां दूर करता है। जामुन (Jamun) के साथ-साथ उसकी गुठलियां भी फायदेमंद होती हैं। इसकी गुठली में जंबोलिन नामक तत्व होता है जो स्टार्च को शर्करा में परिवर्तित होने से रोकता है। इसत तरह मधुमेह के उपचार में उपयोगी है। जामुन (Black Plum) के गुदे का पेस्ट दूध के साथ लगाने से चेहरे पर रोनक आती है। जामुन को कभी खाली पेट नहीं खाना चाहिए और न ही इसे खाने के बाद दूध पीना चाहिए।

    प्रोजेस्टिरोन का स्राव नियमित करे




    जर्मन वैज्ञानिकों ने एक शोध रिपोर्ट में दावा किया है कि जामुन की पत्तियां (Jamun Leafs) महिला सेक्स हार्मोन, प्रोजेस्टिरोन के स्राव में वृद्धि कर उसे संतुलित रखती हैं। चरक संहिता के औषधीय योग पुष्यानुग-चूर्ण में भी जामुन की गुठली मिलाए जाने का विधान है। इस संहिता में जामुन (Black Plum) की छाल, पत्ते, फल, गुठलियां, जड़ आदि सभी औषधियां बनाने में काम आते हैं।

    आहार और फिटनेस में जामुन

    अंग्रेजी में Black Plum नाम से जाना जाने वाला यह जामुनी रंग का फल गर्मी के मौसम में होता है। इस का स्वाद हल्का खट्टा और मीठा होता है। यह मधुमेह के रोगियों के लिए रामबाण औषधि है। जामुन में कई पौष्टिक तत्व जैसे कैल्शियम, आयरन, पोटाशियम और विटामिन आपके शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। जामुन में विटामिन सी भी काफी मात्रा में होता है।

    जामुन के औषधीय गुण और फायदे – Jamun Ke Fayde – Black Plum Benefits Hindi

    डायबिटीज कंट्रोल करे

    जामुन (Black Plum) मधुमेह के रोगियों के लिए सबसे फायदेमंद है। इसमें मौजूद पोषक तत्व जैसे कैरोटीन, आयरन, फोलिक एसिड, पोटाशियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और सोडियम रक्त में ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित रखते हैं। जामुन की गुठली सुखाकर उसका रोजाना सेवन मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत उपयोगी है। जामुन और आम का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से भी मधुमेह के रोगियों को लाभ मिलता है।

    गले का रोग करे ठीक

    जामुन (Jamun) का सेवन गले की बीमारियों को भी दूर करता है। गले को साफ करने के लिए जामुन की छाल को बारीक पीसकर उसका सत बनाएं और इसे पानी में घोलकर माउथ वॉश करे। इससे गला साफ और सांस की दुर्गंध से भी बचे रहेंगे।

    एसिडिटी की समस्या

    कभी एसिडिटी की परेशानी होने पर पेट फूलना, गैस होने लग जाती है। इससे बचने के लिए जामुन को काले नमक में मिलाकर सेवन करने से राहत मिलेगी।




    पथरी में फायदेमंद

    जामुन (Black Plum) की गुठली का चूर्ण बनाकर दही के साथ खाने से पथरी में लाभ मिलता है। इसके अलावा रक्त को साफ करने में भी जामुन (Jamun) फायदेमंद है। रक्त संबंधी रोगों के लिए जामुन के पेड़ की छाल को घिसकर, पानी के साथ मिलाकर रोजाना सेवन से खून साफ होता है।

    शारीरिक दुर्बलता भी करे दूर

    शारीरिक दुर्बलता को दूर करने के लिए हर रोज सुबह जामुन का रस, शहद, आंवले या गुलाब के फूल के रस के साथ सामान मात्रा में सेवन करने से शारीरिक दुर्बलता दूर होने के साथ स्मरण शक्ति भी बढऩे लगेगी।

    जामुन का सिरका पेट रोग करे दूर

    जामुन (Black Plum) के फलों का सिरका बना कर उसको पीने से पेट के रोग ठीक हो जाते हैं। कब्ज की शिकायत है या भूख कम लगती हो जामुन का सिरका आपके लिए बहुत उपयोगी है।

    जामुन के अन्य फायदे – Jamun ke Fayde Hindi Me




    • जामुन (Jamun) खाने से शरीर को ठंडक भी मिलती है।
    • जामुन का सेवन त्वचा के लिए भी गुणकारी है।
    • शरीर में खून को साफ रखने के लिए जामुन खाना फायदेमंद होता है।
    • जामुन के पड़े की छाल का चूर्ण पानी में घोलकर पीने से गले के रोग ठीक होते हैं।
    • जामुन में काला नमक और भूने हुए जीरे के चूर्ण को साथ खाना चाहिए। ऐसा करने से एसिडिटी दूर होगी।
    • जामुन (Jamun) की गुठली को पीसकर आधा-आधा चम्मच दो बार पानी के साथ लगातार बच्चों को कुछ दिन तक देने से बिस्तर गीला करने की आदत छूट जाती है।
    • जामुन लीवर को शक्ति प्रदान करता है और मूत्राशय की गड़बडिय़ों को भी दूर करता है।
    • जामुन (Black Plum) में रक्त निर्माण में भाग लेने वाला तांबा पर्याप्त मात्रा में होता है। यह त्वचा का रंग बनाने वाली मेलानिन कोशिका को सक्रिय कर त्वचा को ठीक करता है। यह रक्तहीनता और ल्यूकोडर्मा की उत्तम औषधि है। जामुन खाने से त्वचा का रंग निखरता है। जिन लोगों को सफेद दाग का मर्ज है, उन्हें जामुन खाना चाहिए।
    • जामुन में विटामिन बी और आयरन पर्याप्त मात्रा में होने के कारण यह एनीमिया को दूर करने और खून में हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए इसका सेवन लाभप्रद है।
    • गठिया के रोग को ठीक करने में भी जामुन (Jamun) बहुत उपयोगी है। इसकी छाल को उबालकर बचे घोल का लेप घुटनों पर लगाने से गठिया में आराम मिलता है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *