क्या है gst, इससे होने वाले फायदे और नुकसान(benefits of gst)

क्या है GST, इससे होने वाले फायदे और नुकसान(Benefits of GST)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • ट्रेंडिंग
  • 943 views
  • क्या है GST (What is GST?):

    GST का पूरा नाम (Goods and Service Tax) इसे हिंदी में वस्तु एवं सेवाकर कहते हैं। GST भारत के टैक्स सिस्टम में सुधार की तरफ बड़ा कदम है। यह वस्तु एंव सेवा कर एक अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) कानून है। जीएसटी एक एकीकृत कर (Integrated Tax) है जो वस्तुओं और सेवाओं (Goods and Services) दोनों पर लगेगा। GST लागू होने से पूरे देश में एक कर (One Tax) व्यवस्था लागू हो गयी है और ज्यादातर अप्रत्यक्ष कर जैसे केंद्रीय उत्पाद शुल्क (Excise), सेवा कर (Service Tax), वैट (Vat), मनोरंजन, विलासिता, लॉटरी टैक्स ये सभी GST में ही शामिल हो गयें हैं। इसके आने से पूरे भारत (India) में एक ही प्रकार का अप्रत्यक्ष कर लगेगा। GST के आने से लोगों को अब अन्य 17 प्रकार का अप्रत्यक्ष कर नहीं देना होगा।




    जीएसटी के फायदे और नुकसान – GST ke fayde – Benefits of GST in hindi

    GST की जरूरत (Importance of GST):

    अब तक हमारे भारत का Tax Structure बहुत ही कठिन और भ्रमित करने वाला था। संविधान (Constitution) के अनुरूप मुख्य रूप से सभी प्रकार की वस्तुओं की बिक्री (Sale) पर कर (Tax) लगाने का अधिकार राज्य सरकार (State Government) और वस्तुओं के उत्पादन व सेवाओं (Production and Services) पर कर लगाने का अधिकार केंद्र सरकार (Central Government) के पास था। इस तरह के कानून से कंपनियों और छोटे व्यवसायों के लिए इन सभी कर कानूनों का पालन करना बहुत मुश्किल हो जाता था।

    GST की मुख्य बातें (Important Features of GST):

      • जीएसटी के लागू होने से पूरे भारत में एक ही अप्रत्यक्ष कर लगेगा जिससे वस्तुओं और सेवाओं की लागत में स्थिरता आएगी अब तक हर राज्य अपने द्वारा तय किए गए नियमों से टैक्स वसूलते थे।
      • GST का प्रयोग केवल अप्रत्यक्ष करों की जगह होगा प्रत्यक्ष कर आय कर इत्यादि पहले की तरह ही लगेगा।

    राज्य और केंद्र सरकार के बीच मतभेद की स्थिति से निपटने के लिए GST दो स्तर पर लग रही है।

    • CGST (केंद्रीय वस्तु एंव सेवा कर) और SGST (राज्य वस्तु एंव सेवा कर) CGST का हिस्सा केंद्र को और SGST का हिस्सा राज्य सरकार को मिलेगा।
    • अगर एक राज्य से दूसरे राज्य में वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री होती है तो ऐसी स्थिति में IGST (एकीकृत वस्तु एंव सेवाकर) लगेगा। IGST का एक हिस्सा केंद्र सरकार और दूसरा हिस्सा वस्तु या सेवा का उपभोग करने वाले राज्य को मिलेगा।
    • GST के तहत उन सभी व्यवसायी, उत्पादक या सेवा प्रदान करने वाले लोगों को रजिस्टर्ड होना होगा जिनकी वर्षभर में कुल बिक्री का मूल्य एक तय किए गए मूल्य से ज्यादा है।



    GST का आम जनता के जीवन पर असर (GST Impact on Common People):

    • अप्रत्यक्ष करों का भार आखिर में उपभोक्ता को ही उठाना पड़ता है। वर्तमान में एक ही वस्तु पर विभिन्न राज्यों में अलग-अलग प्रकार के टैक्स लगते है लेकिन जीएसटी से सभी वस्तुओं और सेवाओं पर एक ही प्रकार का टैक्स लगेगा जिससे वस्तुओं की लागत में कमी आएगी। लेकिन इससे सेवाओं की कीमत महंगी हो जाएगी।
    • सबसे बड़ा बदलाव यह होगा कि पूरे भारत में एक ही रेट से टैक्स लगेगा जिससे सभी राज्यों में वस्तुओं और सेवाओं की कीमत एक जैसी होगी। सभी नागरिको को ख़ास सामान (Special Stuff) सस्ते रेट पर लाने के लिए दूसरे राज्यों (Other States) का चक्कर नहीं लगाना होगा।
    • Goods and Service Tax Law (GST) के लागू होने से केंद्रीय सेल्स टैक्स (सीएसटी), जीएसटी में जुड़ जाएगा जिससे वस्तुओं की कीमत कम होगी।



    बिजनेस पर GST का प्रभाव (GST Impact on Business):

    • अब तक भारत में व्यापारियों को अलग-अलग प्रकार के अप्रत्यक्ष करों का भुगतान करना पड़ता था। उत्पादन करने पर उत्पाद शुल्क, ट्रेडिंग पर सेल्स टैक्स, सेवा पर सर्विस टैक्स आदि। इन सभी प्रकार के करों (Taxes) की वजह से व्यापारियों को अलग-अलग तरह के कर कानूनों (Tax Laws) का पालन करना पड़ता था। जबकि, यह कार्य बहुत ही कठिन (Difficult) है। लेकिन जीएसटी के लागू होने से उन्हें केवल एक ही प्रकार अप्रत्यक्ष क़ानून का पालन करना है। जिससे उन्हें भारत में व्यवसाय करने में आसानी होगी।
    • जीएसटी (GST) के आने से व्यवसाय (Business) करना सरल हो गया है परन्तु इसकी शुरुआत में, व्यापारियों (Dealers) को मुसीबतें झेलनी पड़ सकती हैं. उदाहरण के लिए जीएसटी में प्रत्येक महीने में तीन अलग अलग तरह के रिटर्न फाइल करने पड़ेंगे. कहा जा रहा है के जब व्यापारी इसे नियमित रूप से प्रयोग में लाएंगे और नियमो का पालन करें तो यह काफी आराम से किया जा सकता है ! सरकार ने इससे सम्बंधित कई प्रकार के बुलेटिन और अन्य माध्यमों से जानकारी देने का प्रयास कर रही है!

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *