कैसे होती हैं घमोरियां, कैसे करें इनका उपचार – ghamori symptoms and home remedies

कैसे होती हैं घमोरियां, कैसे करें इनका उपचार – Ghamori Symptoms and Home Remedies

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • घरेलू नुस्खे, स्वास्थ्य
  • 580 views
  • घमौरी (Ghamori) या अलाई गर्मी या उमस भरे बारिश के मौसम में होती है। इस मौसम में छोटी-छोटी ढ़ेर सारी लाल फुंसियां चेहरे या पीठ पर हो जाती है। इन्हें घमौरियां (Ghamoriyan) कहते हैं। वहीं सर्दियों के मौसम में गर्म, ऊनी कपड़े पहनने से भी कई बार घमौरियों की शिकायत हो सकती है। इनमें सुई चुभने जैसा अहसास होता है और खुजली होती रहती है। गर्मी और बारिश के मौसम में पसीना अधिक आता है।




    घमोरियां होने के कारण – Ghamori Se Bachne Ke Upay

    घमोरियां होने पर उभर सकते हैं ये लक्षण – Ghamori Hone Ke Lakshan

    गर्मियों का मौसम शुरू होती ही अनेक बीमारियों का आगमन होने लगता है। गर्मी में लापरवाही से शरीर में निर्जलीकरण, लू लगना, चक्कर आना, घबराहट, नकसीर आना, उल्टी-दस्त, घमोरियों जैसी तकलीफ हो जाती हैं। गर्मियों में पसीना अधिक मात्रा में बहता है यदि पसीने को साफ न किया जाए तो वह सूख जाता है, जिसके कारण पसीने की ग्रंथियां बंद हो जाती है जो घमोरियों का रूप ले लेती हैं। अधिकतर घमोरी हाथ पैरों, छाती तथा बगल में निकलती है।

    गर्मी हो या सर्दी, सूर्य की किरणों के सीधे प्रभाव में आने से बचें

    इस रोग के होने के कारण हमारे शरीर में खुजली होने के साथ हल्की सी चुभन भी रहती है। यह एक प्रकार का चर्म रोग माना जाता हैं। यह गर्मियों के अतिरिक्त बरसात के दिनों में भी हो जाता है। गर्मी में शरीर को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचता है, जिसके कारण काफी परेशानी होती हैं और किसी काम में मन नहीं लगता है। इन सभी बीमारियों से बचने के लिए जितना हो सके गर्मी और सूर्य की सीधी रोशनी से बचने की कोशिश करनी चाहिए।

    गर्मी और बरसात में बरतें खास एहतियात

    गर्मी और बरसात के मौसम में सुबह शाम अच्छे साबुन से नहा कर थोड़ा पाउडर लगा लेना चाहिए ताकि पसीने से छुटकारा मिल सके। इस मौसम में कॉटन (Cotton) के कपड़े पहनने चाहिए जो पसीना सोख लेते है और शरीर को हवा भी मिलती रहती है। फिर भी घमोरियां हो जाए तो घरेलु नुस्खे अपनाने चाहिए।

    कुछ घरेलू उपचार जो दूर करे घमौरियां – Ghamori Ka Gharelu Ilaj

    नीम और बेंकिग सोडा

    लगभग 5 लीटर पानी में नीम की पत्तियां डालकर दस मिनट उबाल लें। इस पानी को नहाने के पानी में मिलाकर नहाने से घमौरियां (Ghamoriyan) ठीक हो जाएगा। और एक कप पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा घोल लें। इसमें एक साफ कपड़ा भिगोकर इस कपडे को दस मिनट घमौरियों वाले स्थान पर रखे। घमौरियों में आराम मिलेगा।




    नीम और तुलसी का पेस्ट

    कुछ नीम की तथा तुलसी की साफ़ पत्तियों को लेकर बारीक पीस कर इनका पेस्ट बन ले और इस पेस्ट को घमौरियों वाले स्थान पर लगाए। सूखने के बाद धो दे। कुछ दिन ऐसा लगातार करने से फ्र्रक पड़ेगा।

    खीरा, नींबू का रस फायदेमंद

    खीरे में अनेक शक्तिशाली गुण है। यह घमौरियों का सबसे आसान इलाज है। एक गिलास पानी में नीम्बू का रस और इसी पानी में खीरे के पतले-पतले टुकड़े काटकर डाल ले। अब इन टुकड़ो को घमौरियों वाले स्थान पर लगाए। यह प्रक्रिया करने से घमोरियों जल्दी ठीक होने लगेंगी तथा जलन तथा खुजली से छुटकारा मिलेगा।

    मुल्तानी मिटटी का उपयोग

    मुल्तानी मिटटी घमौरियों (Ghamoriyon) से सुरक्षा का बहुत ही अच्छा उपाय है। यह घमौरियां होने पर शरीर में खुजली होने लगती है। 5 चम्मच मुल्तानी मिटटी में गुलाब जल मिलाकर इसका लेप घमौरियों वाले स्थान पर लगााने से राहत मिलती है।

    बर्फ का प्रयोग फायदेमंद

    बर्फ सभी घरों में आसानी से मिलने वाला सबसे अच्छा उपाय है। घमौरियां होने पर हमारे शरीर में खुजली तथा जलन होने लगती है। इसके लिए बर्फ के टुकड़ो को घमौरी (Ghamori) वाले स्थान पर लगाए। इससे घमौरियां ठीक होता है।

    सरसों के तेल करें मालिश

    सरसों का तेल अनेक रोगों के लिए रामबाण इलाज माना जाता है। घमौरियां होने पर 2 चम्मच सरसों के तेल में 2 चम्मच पानी मिलाकर सुबह और शाम मालिश करे। यह प्रक्रिया करने से घमौरियां दूर होने लगता है।

    चंदन पाउडर का लेप लगाएं

    यदि गर्मियों में घमौरियों हो जाए तो चंदन पाउडर को पानी में मिलाकर इसका लेप घमौरी वाले स्थान पर लगाने से घमौरियों को ठीक करने में मदद मिलती है।

    संतरे का छिलका लाभकारी

    संतरा अनेक गुणों से भरपूर होता है और इसके छिलके में भी अनेक रोगों को ठीक करने का समाधान है। घमौरियां होने पर संतरे के छिलकों को सुखाकर उसका पाउडर बनाकर इस पाउडर में गुलाब जल मिलाकर अच्छी तरह मिला लें। और इस मिश्रण को घमौरियों वाले स्थान पर लगाए। इससे घमौरियां ठीक हो जाएंगी।

    ये घरेलू नूस्खे भी कारगर

    • एक कप जई का महीन आटा नहाने के एक बाल्टी पानी में घोल लें। इस पानी से घमोरियों को धीरे धीरे धोने से घमौरियों में आराम मिलता है।
    • गुलाब जल (Gulab Jal) में चन्दन पाउडर और कपूर मिलाकर लगाने से घमौरियां ठीक हो जाती है।
    • गर्मी में पानी, शर्बत, ठंडाई और फलों का जूस इत्यादि का सेवन ज्यादा करने से घमोरी नहीं होती है।
    • करेले का रस चौथाई कप लें इसमें इतना ही पानी मिलाकर पिएँ। चार पांच दिन सुबह शाम पीने से घमौरियां ठीक हो जाता है।
    • करेले के रस में लहसुन का रस और सरसों का तेल मिलाकर कुछ दिन रोज हल्की मालिश करने से खुजली मिट जाती है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *