स्प्राउट यानि अंकुरित अनाज के स्वास्थ्य लाभ(health benefits of sprouts)

स्प्राउट यानि अंकुरित अनाज के स्वास्थ्य लाभ(Health Benefits of Sprouts)

  • Lifestyle हिन्दी
  • no comment
  • स्वास्थ्य
  • 2709 views
  • स्प्राउट या कहें अंकुरित अनाज, दलहन या नट्स में भारी मात्रा में पोषक तत्व और प्रोटीन पाए जाते हैं। दलहन, नट्स, बीज, अनाज और फलियों को अंकुरित कर स्प्राउट्स बनाया जाता है। स्प्राउटिंग या अंकुरण, मिनरल्स को अवशोषित करने और उनकी प्रोटीन मात्रा को बढ़ाने, विटामिन और पोषक तत्वों को ग्रहण करने में मदद करता है। किसी भी अनाज या दाल को जब पानी में भिगोकर स्प्राउट बनाते हैं तो एंटी-न्यूट्रीएंट्स खत्म हो जाते हैं। इन तत्वों के खत्म होने से इन्हें पचाने में आसानी होती है। स्प्राउट में स्टार्च की मात्रा कम होने से शरीर में फैट नहीं बढ़ता। बादाम में भरपूर गुण होते हैं लेकिन अगर आप इसे यूं ही खा ले तो ये कम असरदार और फायदेमंद होता है। बादाम को एक रात पहले पानी में भिगो दें और दूसरे दिन सुबह छीलकर खाएं। इस तरह उसमें वसा नहीं रहेगा और शरीर को अधिक से अधिक फायदा होगा। कुछ स्प्राउट जैसे-अल्फला, मूली, ब्रोकली, क्लोवर और सोयाबीन आदि से मिलने वाले स्प्राउट हैं जो हमारे शरीर को कई बीमारियों से बचाते हैं। स्प्राउट (अंकुरित अनाज) में भारी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पोषक तत्व होते हैं जो शरीर की आंतरिक प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सहायक होते हैं। अंकुरित अनाज (Sprout) सबसे सस्ता पोषक आहार होता है जिसे आसानी से घर में तैयार किया जा सकता है। पूरे देश में कहीं भी चना, मूंग, राजमा, मटर आदि मिल जाता है। इसे एक रात पहले साफ पानी में भिगो दें। दूसरे दिन उसे साफ कर लें और कच्चा या अन्य सब्जियों के साथ स्टिर फ्राई करके खा लें। अंकुरित अनाज (Sprout) खाने का चलन बहुत पुराना है। स्वस्थ रहने के लिए डॉक्टर भी अंकुरित दालों के सेवन करने को कहते है। अंकुरित अनाज में विटामिन ए, बी, सी, ई, के और अन्य अमीनो एसिड भारी मात्रा में होते हैं।




    अंकुरित अनाज के फायदे – Ankurit Anaj ke labh – Health Benefits of Sprouts Hindi

    स्प्राउट में मौजूद एंजाइम लाभकारी – Sprouts Healthy food

    स्प्राउट में सब्जियों और फलों के मुकाबले कहीं ज्यादा एन्जाइम होता है। एन्जाइम्स एक तरह का प्रोटीन है जो शरीर में विटामिन, मिनरल्स, अमीनो एसिड और जरूरी फैटी एसिड की मात्रा के लिए उत्प्रेरक का काम करता है।

    ज्यादा प्रोटीन घटाए फैट

    दलहन, नट्स, बीजों और अनाज में प्रोटीन ज्यादा होती है। इनका स्प्राउट (Sprout) बनने से प्रोटीन की मात्रा और बढ़ जाती है जबकि फैट बिल्कुल नहीं रहता। स्प्राउट खने से शरीर में प्रोटीन की कमी दूर होती है। स्प्राउट शरीर का इम्यून सिस्टम (Immune System) भी मजबूत करता है।

    ज्यादा मात्रा में फाइबर

    स्प्राउट में फाइबर की मात्रा काफी ज्यादा होती है। इसे खाने से वजन कम होता है। फाइबर, शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने में मदद कर अतिरिक्त वसा भी घटाता है।




    विटामिन से भरपूर अंकुरित अनाज (Sprouts)

    स्प्राउट (Sprouts) में अनाज के मुकाबले ज्यादा मात्रा में विटामिन ए, बी-कॉम्पलेक्स, सी और ई होता है। इसमें अमीनो एसिड भी भरपूर मात्रा पाई जाती है जो शरीर के मेटाबोलिज्म को सही रखता है। अमीनो एसिड, शरीर में वसा को घटाता है।

    शरीर के जरूरी मिनरल्स मौजूद

    स्प्राउट (अंकुरित अनाज ) में सभी जरूरी मिनरल्स होते हैं जो शरीर के लिए जरूरी होते हैं। इसमें कैल्शियम, मैग्निशियम आदि स्प्राउट काफी मात्रा में होते हैं। यह शरीर को मजबूत और पाचन क्रिया को भी दुरुस्त रखते हैं।

    हानिकारक तत्वों से रहित है स्प्राउट

    घर पर तैयार स्प्राउट (अंकुरित अनाज) बिल्कुल शुद्ध और साफ होते हैं। पैक स्प्राउट का प्रयोग कम करना चाहिए क्योंकि इसमें प्रिजर्वेटिव होते हैं। घर पर स्प्राउट बनाने के लिए दाल या अनाज को अच्छी तरह से साफ कर भिगोएं।

    एनर्जी पावर हाउस

    स्प्राउट खाने से शरीर को ऊर्जा मिलती है। इनमें प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स की भरपूर मात्रा होती है। इससे शरीर में एनर्जी लेवल बढ़ जाता है। ड्राई फ्रूट जैसे बादाम आदि का स्प्राउट खाने से ऊर्जा और अधिक मात्रा में आती है।

    कैसे बनाएं सस्ता और गुणकारी आहार

    स्प्राउट (अंकुरित अनाज) सबसे सस्ता और अच्छा आहार है। हर दिन ज्यादा पैसे खर्च नहीं करने पड़ते। घर में रखी दाल, अनाज या नट्स से इसे बनाया जा सकता है। इन सब को एक रात पानी में भिगों कर रखना हैं। अगले दिन इसे पानी से निकाल कर एक कपड़े में बांध कर रख दें और स्प्राउट निकलने पर इसे नाश्ते में या शाम को खा सकते हैं।




    और भी हैं स्प्राउट Sprouts (अंकुरित अनाज )बनाने के तरीके

    अंकुरित अनाज (Sprouts) बनाने का तरीका एक जैसा ही होता है लेकिन इसे स्वादानुसार कई तरीकों से खाया जा सकता है। इसे कच्चा खाया जाए तो बहुत ही अच्छा है लेकिन बच्चों को खिलाने के लिए इसमें प्याज, टमाटर आदि डालकर फ्राई कर इसमें नीबूं का रस मिलाएं। स्प्राउट की सब्जी भी बनाई जा सकती है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *